ख़बरें

महाराष्ट्र में महिलाओं को मिलेंगे गर्भ से छुट्टी देने वाले इंजेक्शन

तर्कसंगत

July 11, 2017

SHARES

महाराष्ट्र महिलाओं के लिए इंजेक्शन से लिया जाना वाला गर्भनिरोधक मुहैया कराने वाला पहला राज्य बन गया है.

भारत सरकार के परिवार कल्याण एवं स्वास्थ्य मंत्रालय ने चार प्रांतों को इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए चुना है. विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर महाराष्ट्र सरकार ने अंतारा योजना शुरू की है जो पुणे, मुंबई, रायगढ़, ननदरबार, अहमदनगर, औरंगाबाद, कोल्हापुर, सांगरली, रत्नागिरी और बीड़ ज़िलों में लागू होगी.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक राज्य के जन स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए 33 हज़ार इंजेक्शन डोज़ प्राप्त किए हैं. अंतारा योजना को 23 ज़िला अस्पतालों, 20 मेडिकल कॉलेजों और 12 महिला अस्पतालों में लागू किया जाएगा. वहीं बृहन्मुंबई नगर निगम ने भी अपने अस्पतालों और मेटरनिटी होम के लिए दस हज़ार इंजेक्शन हासिल किए हैं.

गर्भ निरोधन के इस नए तरीके को मेड्रोक्सीप्रोजेस्ट्रोन एसेटेट (एमपीए) कहा जाता है. ये गर्भ निरोधन का नया तरीका है. हालांकि निजी अस्पतालों में ये इंजेक्शन कुछ सालों से दिए जा रहे थे. इस इंजेक्शन को माहवारी शुरू होने के एक सप्ताह के भीतर लिया जाता है.

एक इंजेक्शन तीन महीने तक गर्भ धारण नहीं होने देता है. इस तरीके में गर्भ निरोधन लेना बंद करने के सात महीने बाद गर्भ धारण संभव हो पाता है. ये इंजेक्शन 18-45 साल की महिलाओें को लगाया जा सकता है.

दुष्प्रभाव

हालांकि इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट भी हैं जो इस इंजेक्शन की सबसे बड़ी ख़ामियों में से एक हैं. इनमें रक्त बहना, माहवारी में गड़बड़ होना और माहवारी न होना शामिल हैं.

विशेषज्ञों का मानना है कि एमपीए को बार-बार इस्तेमाल करने से स्वास्थ्य को नुक़सान हो सकता है.

Courtesy: The Indian ExpressHindustan Times | Representational Image: The Daily Beast

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...