ख़बरें

मुंबई का माटूंगा स्टेशन हुआ महिलाओं के नाम

तर्कसंगत

July 17, 2017

SHARES

अभी तक आपने लेडीज कोच, लेडीज स्पेशल स्कीम सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं मध्य रेलवे ने माटुंगा को देश का पहला ‘लेडीज स्पेशलस्टेशन बना दिया है। जी हां महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देते हुए मुंबई का सेंट्रल रेलवे माटुंगा रेलवे स्टेशन पूरी तरह से महिला कर्मचारियों के हवाले कर दिया गया. यहां पर सिर्फ महिला कर्मचारी ही तैनात हैं. हालांकि इससे पहले हाल ही में जयपुर का मेट्रो स्टेशन महिलाओं द्वारा संचालित किया जा रहा है.

स्टेशन पर कुल 30 महिला कर्मचारी तैनात हैं. इनमें 11 बुकिंग क्लर्क हैं, जबकि 5 आरपीएफ कर्मी, 7 सात टिकट कलक्टर (टीसी) हैं, 2 चीफ बुकिंग एडवाइजर्स व अन्य कर्मचारी हैं. ये सभी स्टेशन प्रबंधक ममता कुलकर्णी की देखरेख में दो हफ्ते से चौबीसों घंटे रेलवे स्टेशन को संभाल रही हैं.

इस स्टेशन को देश की पहली महिला स्टेशन मास्टर ममता कुलकर्णी संभाल रही हैं. ममता ने जब 1992 में मध्य रेलवे में नौकरी शुरू की थी, तब वह मुंबई डिवीजन के किसी रेलवे स्टेशन की पहली महिला स्टेशन मास्टर थीं. ममता का कहना है, ‘हमारा अनुभव बहुत अच्छा रहा है. रेलवे के साथ 25 वर्षों के अपने कॅरियर में मैंने कभी भी सभी महिला कर्मचारियों के साथ काम करने की नहीं सोची थी. शुरू में भले ही हमें कुछ परेशानी हुई, लेकिन अब नौकरी की जिम्मेदारी के रूप में हम आगे बढ़ रहे हैं’.

इस कदम के पीछे सेंट्रल रेलवे के जीएम डीके शर्मा की महत्वपूर्ण भूमिका है. बताया जा रहा है कि इस स्टेशन को एक प्रयोग के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है, अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो कई अन्य स्टेशनों पर भी इसे लागू किया जा सकता है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...