ख़बरें

रायसीना पर कोविंद राज

तर्कसंगत

July 20, 2017

SHARES

एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद देश के 14वें राष्ट्रपति होंगे जो 25 जुलाई को 11 बजे शपथ लेंगे. रामनाथ कोविंद को कुल वोट 10,98903 में से 702044 मिले हैं वहीं मीरा कुमार को 367314 वोट मिले जबकि राष्ट्रपति बनने के लिए कोविंद को 5,52,243 वोट चाहिए थे. रामनाथ कोविंद को 522 सांसदों ने वोट दिया, वहीं 225 सांसदों ने मीरा कुमार को वोट दिया. 21 सांसदों के वोट को खारिज कर दिया गयागोवा और गुजरात में एनडीए के पक्ष में क्रॉस वोटिंग भी हुई. कोविंद यूपी से पहले राष्ट्रपति होंगे साथ ही बीजेपी से सीधे जुड़े रहने वाले भी पहले राष्ट्रपति होंगे.

चुनाव जीतने के बाद उनहोंने कहा कि ये बेहद भावुक मौका है. राष्ट्रपति पद के लिए चुना जाना मेरा लक्ष्य नहीं था. अब संविधान की रक्षा मेरा कर्तव्य होगा और मैं सर्वे भवंतु सुखिन: की भावना से काम करूंगा. हम मीरा कुमार को भी शुभकामनाएं देते हैं.’’

जिस पद का गौरव राजेंद्र प्रसाद, राधाकृष्णन, एपीजे अब्दुल कलाम, प्रणब मुखर्जी जैसे विद्वानों ने बढ़ाया है, उसके लिए चयन मुझे जिम्मेदारी का अहसास कराता है. यह बहुत भावुक क्षण है. आज दिल्ली में सुबह से बारिश हो रही है। इस मौसम में मुझे बचपन का अपना वो गांव याद आता है. मिट्टी का घर था, कच्ची दीवारें थीं, फूस की छत के नीचे खड़े होकर हम भाईबहन सोचते थे कि बारिश कब बंद होगी.’’

कितने ऐसे रामनाथ होंगे जो खेती कर रहे होंगे, बारिश में भीग रहे होंगे, जीवन के लिए संघर्ष कर रहे होंगे. आज परौंख गांव का कोविंद उन्हीं का प्रतिनिधि बनकर राष्ट्रपति भवन जा रहा है. इस पद पर चुना जाना मेरा लक्ष्य नहीं था, मैंने कभी इस बारे में कभी सोचा तक नहीं था. देश के लिए अथक सेवा भाव मुझे यहां तक लाया है. संविधान की रक्षा करना और उसकी मर्यादा बनाए रखना मेरा कर्तव्य होगा. मैं राष्ट्र की सेवा में निरंतर लगा रहूंगा. देश के लोगों का मैं आभार व्यक्त करता हूं.

कैसे होता है राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समरोह कौन दिलवाता है शपथ

भारतीय गणराज्य के 14वें राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह 25 जुलाई 2017 को पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल में आयोजित होगा. भारत के मुख्य न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर नये राष्ट्रपति को शपथ दिलायेंगे.

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से सबसे पहले कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा की मुलाकात होगी. उसके बाद अधिकारियों की एक टीम मिलेगी जो रामनाथ कोविंद को ब्रीफिंग में सहयोग करेंगे. पीके सिन्हा के साथ केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि भी होंगे जो 25 जुलाई को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियों के बारे में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति को बताएंगे. इसके बाद राष्ट्रपति के मिलिट्री सेक्रेटरी अनिल खोसला नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से औपचारिक मुलाकात करेंगे.

इन वरिष्ठ अधिकारियों की नवनिर्वाचित अधिकारियों के साथ मुलाकात खत्म होने के बाद इंडियन आर्मी में तैनात अफसरों की टीम जो राष्ट्रपति के अंगरक्षक होते हैंवो 10 अकबर रोड की सुरक्षा अपने हाथों में ले लेंगे. बता दें कि रामनाथ कोविंद फिलहाल 10 अकबर रोड में ही रह रहे हैं। उनसे पहले केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा उस मकान में रह रहे थे.

जब तक रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन में शिफ्ट नहीं हो जाते हैंतब तक 10 अकबर रोड पर नए राष्ट्रपति के लिए एक अस्थाई सचिवालय भी काम करने लगेगा. उस सचिवालय के कर्मचारी भी वहां आज से तैनात हैं. इसके अलावा दिल्ली पुलिस भी वहां विशेष सुरक्षा के इंतजाम में लगी रहेगी.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...