ख़बरें

साढ़ें पांच करोड़ रिश्वत लेने के आरोप में भाजपा नेता निलंबित

तर्कसंगत

July 21, 2017

SHARES

केरल भाजपा के एक नेता को भ्रष्टाचार के आरोप में पार्टी से निलंबित किया गया है.

पार्टी ने आंतरिक जांच में रिश्वत लेने का आरोप साबित होने के बाद आरएस विनोद की प्राथमिक सदस्यता रद्द कर दी है.

विनोद पर आरोप है कि उन्होंने एक अस्पताल को मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया से मेडिकल कॉलेज का दर्जा दिलवाने के बदले साढ़े पांच करोड़ रुपए लिए.

केरल भाजपा की आंतरिक जांच रिपोर्ट मीडिया के जरिए सार्वजनिक होने के बाद पार्टी ने उन्हें निलंबित करने का फ़ैसला लिया है.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक शुरुआत में केरल भाजपा अध्यक्ष कुम्मनम राजशेखरन ने ऐसी किसी जांच से इनकार किया था.

हालांकि बाद में उन्होंने पार्टी के राज्य को-आपरेटिव प्रकोष्ठ के प्रमुख आरएस विनोद को पार्टी से बाहर कर दिया.

राजशेखरन ने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा, “विनोद ने बहुत बड़ी गलती की है. उनके कामों की वजह से पार्टी को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है और पार्टी की छवि ख़राब हुई है.”

एक संस्थान ने आरोप लगाया था कि विनोद ने एमसीआई से मान्यता दिलवाने के बदले साढ़े पांच करोड़ रुपए की रिश्वत ली बावजूद इसके मान्यता नहीं दिलवाई.

इन आरोपों के बाद पार्टी के दो सदस्य दल ने आरएस विनोद के ख़िलाफ़ जांच की थी.

जांच दल के सामने ये बात भी आई है कि पार्टी के अन्य नेताओं ने भी अस्पतालों से रिश्वत ली है.

वहीं विनोद का कहना है कि पार्टी की आंतरिक कलह की वजह से जांच रिपोर्ट मीडिया में आई है.रिपोर्ट मीडिया में आने के बाद पार्टी को फ़ज़ीहत का सामना करना पड़ रहा है.

भारतीय जनता पार्टी ने भ्रष्टाचार को ख़त्म करने का वादा किया था. विपक्ष ने पूरे मामले में सीबीआई जांच की मांग की है.

Courtesy: Hindustan Times, Deccan Chronicle, The Indian Express | Image Credit: The Indian Express

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...