ख़बरें

आंखों वाले अंधे बने रहे, नेत्रहीन ने की घायल की मदद

Poonam

September 8, 2017

SHARES

मुंबई के दादर स्टेशन पर एक यात्री प्लेटफ़ार्म पर गिरकर घायल हो गया था.

चार सितंबर की इस घटना में घायल व्यक्ति की मदद के लिए सबसे पहले स्टेशन पर बांसुरी बजाकर मांगने वाला नेत्रहीन व्यक्ति सामने आया.

दरअसल चार सितंबर को शाम करीब पौने चार बजे दादर स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर पांच पर कोणार्क एक्सप्रेस पहुंची थी.

इसी ट्रेन से उतरने की कोशिश में एक व्यक्ति प्लेटफार्म पर गिर गए थे.

गिरे हुए व्यक्ति को देखकर जब कोई भी मदद को आगे नहीं आया तो वहीं खड़े नेत्रहीन सलीम शेख ने रेलवे पुलिस को फ़ोन किया.

सलीम के मुताबिक उन्हें आरपीएफ़ निरीक्षक का मोबाइल नंबर ज़बानी याद था और उन्होंने फोन करके उऩ्हें सूचना दे दी.

कुछ ही मिनट बाद आरपीएफ़ के जवान मौके पर पहुंच गए और घायल को चिकित्सीय मदद मुहैया कराई.

चोटिल व्यक्ति को कोई बाहरी चोट नहीं थी इसके बावजूद पुलिस उन्हें अस्पताल लेकर गई और चैक अप कराया.

नेत्रहीन सलीम दादर फुटओवर ब्रिज पर बैठकर बांसुरी बजाते हैं. उनकी बांसुरी की मधुर आवाज़ चलते हुए लोगों को मोह लेती है और कई बार लोग उन्हें पैसे दे देते हैं.

बदलापुर के प्रगति अंध विद्यालय से बांसुरी बजाना सीखने वाले सलीम बांसुरी बजाकर ही जीपन यापन करते हैं.

घटना वाले दिन वो प्लेटफार्म पर कुछ खाने के लिए गए थे.

सलीम कहते हैं कि कोई भी व्यक्ति प्लेटफार्म पर गिरे व्यक्ति की मदद के लिए आगे नहीं आ रहा था. लोग कह रहे थे कि कोई नशेड़ी गिर गया है.

जहां आंखों वाले लोग सबकुछ देखकर अंधे बने रही वहीं नेत्रहीन सलीम ने मदद कर मानवती की मिसाल पेश की है.

तर्कसंगत सलीम को सलाम करती है.

Source: NBT.IN

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...