ख़बरें

तमिलनाडुः पोती को बलात्कार से बचाने के लिए दादी ने ली बेटे की जान

Poonam

September 20, 2017

SHARES

अपने ही घर में बच्चों का यौन शोषण होना हमारे समाज की एक ऐसी वीभत्स सच्चाई है जिसका सामना करने से हम बचते रहे हैं.

ऐसे मामले सामने आते रहते हैं जब बाप, भाई या नज़दीकी रिश्तेदार ने ही बच्चियों के साथ बलात्कार किया हो.

तमिलनाडु में एक मां ने अपने ही बलात्कारी बेटे की हत्या कर दी. महिला ने अपनी पोती को बेटे के हाथों बलात्कार से बचाने के लिए बेटे की ही जान ले ली.

अब पुलिस ने इस पैंसठ वर्षीय महिला को गिरफ़्तार कर लिया है. स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक ये मामला शिवगंगा जडिले के सक्कावयाल गांव का है.

19 वर्षीय एक लड़की के पिता ने घर की चारदिवारी के भीतर कई बार उसका यौन शोषण करने की कोशिश की. हर बार दादी ने उसे बचा लिया.

लेकिन इस बार जब 47 वर्षीय वीरास्वामी शराब के नशे में धुत्त घर पहुंचा और बेटी का शोषण करने की कोशिश की तो उसकी मां ने ही इस सिसलिसे को ख़त्म करने का फ़ैसला कर लिया.

महिला ने कुदाल उठा ली और पोती का बलात्कार करने की कोशिश कर रहे अपने ही बेटे को मौत के घाट उतार दिया.

घटना के बाद पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर लिया. बहुत से लोगों के मन में ये सवाल है कि महिला ने अपनी पोती की इज़्ज़त बचाने के लिए ही अपने बेटे की जान ली है लेकिन पुलिस का कहना है कि वह अपना काम कर रही है.

महिला को आईपीसी की धारा 304 के तहत गिरफ्तार किया गया है.

इस मामले में मृतक साल 2015 में एक बार यौन शोषण के आरोप में जेल जा चुका है. परिवार ने ही उसके खिलाफ़ शिकायत दी थी और बाद में उसकी ज़मानत भी करा ली थी.

मृतक शराबी था और उसने गांव में कई लोगों से कर्ज़ ले रखा था जिसकी वजह से परिवार को रिश्तेदार के घर में रहना पड़ रहा था.

पीड़ित युवती का कहना है कि उसकी दादी की पेंशन से ही वो लोग अपना खर्चा चला रहे थे  यदि अब यह भी बंद हो गई तो उनके सामने दो वक्त की रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...