ख़बरें

ब्रेकअप के बाद बॉयफ्रेंड ने दोस्तों के साथ की गैंगरेप की कोशिश, वीडियो बनाया

तर्कसंगत

September 28, 2017

SHARES

आंध्र प्रदेश की पुलिस ने तीन ऐसे युवकों को गिरफ्तार किया है जिनका एक युवती के साथ बलात्कार का प्रयास करने का वीडियो वायरल हुआ है.

ये तीनों युवक एक उन्नीस साल की कॉलेज छात्रा के साथ बलात्कार करने का प्रयास कर रहे थे.

प्रकासम ज़िले के कानीगिरी शहर का ये वीडियो व्हास्टएप और फ़ेसबुक पर वायरल हो गया है.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़ित लड़की मुख्य अभियुक्त की प्रेमिका थी.

मुख्य अभियुक्त साईं बीएसी का छात्र है.  जब पीड़िता को अहसास हुआ कि युवक उसके साथ सिर्फ़ जिस्मानी रिश्ता बनाने में ही दिलचस्पी ले रहा है तो उसने अपने रास्ते अलग करने का फ़ैसला लिया.

लड़की के ब्रेक अप करने के बाद अभियुक्त ने उससे बदला लेने की ठान ली.

पुलिस के मुताबिक पीड़िता से बदला लेने के लिए साईं ने पीड़िता को अपने रिश्ते के बारे में बात करने के लिए अकेले मिलने के लिए बुला लिया.

अभियुक्त के साथ उसके दोस्त कार्थिक और पवन भी थे. तीनों युवकों ने पीड़िता के साथ गैंगरेप की कोशिश की.

वीडियो में लड़की उनसे छोड़ देने की गुहार लगाते हुए दिख रही है. इस दौरान लड़के उसके साथ ज़बरदस्ती करते रहे और वीडियो बनाते रहे.

पुलिस के मुताबिक पीड़िता साईं के साथ करीब एक साल से रिश्ते में थी. साईं हमेशा उस पर शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव बनाता रहता था.

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक साईं से पहले पीड़िता और कार्तिक भी रिलेशनशिप में थे. रिपोर्ट के मुताबिक कार्तिक ने ही साईं को पीड़िता से बदला लेने के लिए उकसाया.

पीड़िता जब साईं से मिलने गई तब उसकी एक दोस्त भी साथ थी. वो इस घटना की गवाह है.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक ये वारदात अगस्त की है लेकिन वीडियो वायरल होने के बाद अभियुक्तों को 26 सितंबर को ही गिरफ्तार किया गया है.

अभियुक्तों पर  आईपीसी की विभिन्न धाराओं के साथ साथ बलात्कार की धारा भी लगाई गई है.

प्रकासम पुलिस के मुताबिक पुलिस को घटना की जानकारी तीन दिन पहले ही हुई थी जिसके बाद मामला दर्ज कर वीडियो में दिख रहे तीनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया.

इसी साल मई में उत्तर प्रदेश से भी ऐसा ही वीडियो सामने आया था जिसमें चौदह युवक एक युवती से छेड़छाड़ करते दिख रहे थे.

तर्कसंगत की राय

युवकों का इस तरह लड़की के साथ गैंगरेप के प्रयास का वीडियो बनाना दर्शाता है कि उनके भीतर क़ानून का डर बिलकुल भी नहीं था. अपने ग़ुनाह को इस तरह से रिकॉर्ड करना दर्शाता है कि वो इस बात को लेकर आश्वस्त थे कि लड़की अपनी इज्ज़त की ख़ातिर ज़बान नहीं खोलेगी.

हुआ भी यही, पीड़िता पुलिस के सामने नहीं गई. उसने चुपचाप इस ज़ुल्म को बर्दाश्त कर लिया. यदि ये वीडियो वायरल नहीं होता तो शायद इन अभियुक्तों को अपने ग़ुनाह की सज़ा कभी मिल ही न पाती.

ऐसे मामलों में लड़कियों को और अधिक सतर्क रहने की ज़रूरत है. यदि किसी के साथ ऐसी वारदात हो जाती है तो फिर ख़ामोशी समधान नहीं है. सिर्फ़ सामने आकर ही अपराधियों को सज़ा दिलाई जा सकती है.

पीड़ित लड़कियां खुलकर सामने आ सकें इसके लिए हमारे समाज को भी माहौल अनुकूल बनाना होगा. ऐसी वारदातों की शिकार लड़कियों के बारे में अब समाज की राय बदलने का वक्त आ गया है. यदि समाज पीड़िताओं के साथ खड़ा होना शुरू कर देगा तो ऐसी वारदातें भी बंद हो जाएंगी.

Courtesy: The Times of IndiaThe Hindu | Image Credit: ANI/Twitter

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...