ख़बरें

उंगली काटने वाला बयान देने वाले नित्यानंद ने मांगी माफ़ी

Poonam

November 21, 2017

SHARES

बिहार बीजेपी के अध्यक्ष मोदी की आलोचना में उठने वाली उंगली को काटने के बयान पर माफ़ी मांग ली है.

नित्यानंद राय ने कहा था, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ उठने वाली उंगली को काट दिया जाना चाहिए.”

पटना में कानू जाति के एक सम्मेलन में बोलते हुए राय ने कहा था, “”एक गरीब का बेटा देश का प्रधानमंत्री बना है. देश के एक-एक व्यक्ति को सभी चीजों से ऊपर उठकर उन पर स्वाभिमान होना चाहिए और इसकी कद्र होनी चाहिए. उनकी ओर उठने वाली उंगली और हाथ को हम सब मिलकर या तो तोड़ दें या जरूरत पड़े तो उसे काट दें.”

जब इस बयान की आलोचना होने लगी तो आनंद राय ने माफ़ी मांग ली.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, “कल एक कार्यक्रम में मेरे द्वारा दिये एक बयान के भाव को गलत अर्थों में लिया गया. उस कार्यक्रम में मैंने जो भी बोला वह महज मुहावरे के रूप में प्रयोग किया था. फिर भी यदि उस बयान से किसी की भावना आहत हुई है तो मै इसके लिए खेद प्रकट करता हूँ.”

 

बहुत से लोगों ने नित्यानंद राय के बयान को प्रधानमंत्री की आलोचना करने वाले लोगों को धमकी के रूप में देखा है.

नित्यांनद राय भाजपा के सांसद हैं और बीते साल नवंबर में ही बिहार भाजपा के अध्यक्ष बने थे.

नित्यानंद राय अब कह रहे हैं कि उनके बयान का अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए. वैसे आजकल नेताओं के हिंसक बयान देना कोई नई बात नहीं हैं.

सार्वजनिक मंच पर कई नेता हिंसक बयान दे चुके हैं.

सोमवार को ही हरियाणा भाजपा के मीडिया समन्वयक कुंवर सूरजपाल अमु ने दीपिका का सर काटने पर दस करोड़ रुपए का ईनाम देने का ऐलान किया था जिसकी चौतरफ़ा आलोचना हुई है.

हालांकि ऐसा लगता नहीं कि इन नेताओं पर आलोचना का कोई असर होता है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...