ख़बरें

राशनकार्ड के बदले विधवा का यौन शोषण, तेरह को हुआ एड्स

Poonam

January 30, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के एक गांव में राशन कार्ड बनाने के बदले ग्राम प्रधान और उसके साथियों ने एक युवती का यौन शोषण किया.

विधवा युवती जिस-जिस के पास मदद मांगने पहुंची उस-उस ने उसका यौन शोषण किया.

राशन कार्ड और विधवा पेंशन कार्ड बनाने के नाम पर रिश्वत के रूप में युवती का शरीर मांगा गया.

मजबूर युवती जगह-जगह अपने आप को परोसती गई. लेकिन कुदरत ने ऐसा न्याय किया कि युवती के साथ संबंध बनाने वाले तेरह लोगों को एड्स हो गया.

दरअसल गोरखपुर के एक गांव की एक विधवा युवती पति की मौत के बाद ग्राम प्रधान के पास राशन कार्ड और विधवा पेंशन कार्ड बनवाने गई थी.

प्रधान ने युवती का राशन कार्ड तो बनाया लेकिन रिश्वत के रूप में उसका जिस्म मांग लिया.

प्रधान ने न सिर्फ़ स्वयं युवती का यौन शोषण किया बल्कि ग्राम पंचायत के सचिव समेत अन्य लोगों के सामने भी उसे परोसता रहा.

इसके बाद युवती को यौन शोषण का ऐसा सिलसिला शुरू हुआ जो तीन साल तक चलता रहा.

मामले का खुलासा तब हुआ जब युवती बीमार हुई और मेडिकल जांच में उसे एड्स होने की पुष्टि हुई.

इसके बाद गांव के प्रधान और ग्रामसभा सचिव समेत तेरह और लोगों की भी मेडिकल जांच में एड्स होने की पुष्टि हुई.

स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि प्रधान और महिला से संबंध रखने वाले अन्य लोगों की भी चिक्तसीय जांच की जा सकती है.

स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने मीडिया को बताया है कि युवती ने पूछताछ में अपने साथ हुए शोषण की पूरी कहानी बता दी.

इस युवती की शादी छह साल पहले हुई थी लेकिन तीन साल पहले रहस्यमय बीमारी से पति की मौत हो गई.

युवती को पता नहीं था कि उसके पति को एड्स था. आशंका जताई जा रही है कि उसे भी एड्स पति से ही मिला हो.

महिला का पति बाहर रहकर काम करता था. अनुमान लगाया जा रहा है कि वो एड्स का वायरस इस दौरान ही लाया था.

एड्स एक लाइलाज संक्रामक रोग है जो असुरक्षित सेक्स संबंधों से फैलता है. अभी तक इर रोग का इलाज नहीं खोजा जा सका है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...