ख़बरें

पहचान पत्र न होने पर महिला को अस्पताल से निकाला, दरवाज़े पर दिया बच्चे को जन्म

तर्कसंगत

January 31, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के जौनपुर ज़िले के शाहगंज इलाक़े में एक गर्भवती महिला को अस्पताल के दरवाज़े पर ही बच्चे को जन्म देना पड़ा.

दरअसल महिला पहचान पत्र के तौर पर आधार कार्ड या राशनकार्ड की कॉपी जमा नहीं करा पायी थी.

22 साल की चंदा को  लेबर पीड़ा  होने के बाद अस्पताल लाया गया था. परिजनों का आरोप है कि पहचान पत्र की कॉपी न होने की वजह से उसे अस्पताल में भर्ती नहीं होने दिया गया.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक बाद में महिला ने अस्पताल के गेट पर ही बच्चे को जन्म दे दिया.

फिलहाल मां और बच्चा दोनों की हालत ठीक है.

मामला सामने आने के बाद जौनपुर के मुख्य चिकित्साधिकारी ने दो चिकित्साअधिकारियों की देखरेख में जांच समिति गठित कर दी है.

जौनपुर के सीएमओ डॉ. ओपी सिंह का कहना है कि पहचान पत्र हो या न हो किसी को अस्पताल में भर्ती करने से इनकार नहीं किया जा सकता.

उन्होंने कहा कि पहचान पत्र परिवार को बच्चे का जन्म होने पर मिलने वाली चौदह सौ रुपए की आर्थिक मदद दिलाने के लिए मांगे जाते हैं.

भारत सरकार की जननी सुरक्षा योजना के तहत सरकारी अस्पताल में बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं के खाते में चौदह सौ रुपए की आर्थिक मदद भेजी जाती है.

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पतालों की बदहाली और व्याप्त भ्रष्टाचार की ख़बरें आम बात है.

ज़्यादातर सरकारी अस्पतालों में ज़रूरी डॉक्टर तक नहीं हैं.

इस मामले ने एक बार फिर सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था की संवेदनहीनता को ही उजागर किया है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...