ख़बरें

भारतीय सेना की कार्रवाइयों में अब तक बीस पाकिस्तानी सैनिक मारे गए

तर्कसंगत

February 15, 2018

SHARES

‘द टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ ने सरकारी सूत्रों के हवाला से दावा किया है कि भारतीय सेना ने एक जनवरी के बाद से सीमा पर किए गए अभियानों में बीस से ज़यादा पाकिस्तानी सैनिक मार दिए हैं. वहीं पाकिस्तान ने बुधवार को पांच भारतीय सैनिकों को मारने का दावा किया है.

अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सीमा पर तैनात भारतीय सेना के कमांडरों को खुली छूट दी गई है और भारतीय सेना के अभियान पाकिस्तानी सेना का मनोबल तोड़ रहे हैं.

भारतीय सेना गोलीबारी के साथ-साथ गुरिल्ला अभियान भी चला रही है.

पाकिस्तानी सेना पर बनाए गए दबाव का नतीजा है कि नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना ने 35 बार अपने सैनिकों के लिए रेड अलर्ट बजाया है.

जनवरी के बाद से पाकिस्तान की दसवी कोर्प के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल नदीम रज़ा को दस बार सीमाक्षेत्र का दौरा करना पड़ा है.

भारतीय सेना की मोर्टार फ़ायर और गोलीबारी में पाकिस्तान की कई चौकियां भी तबाह हो गई हैं.

हाल के महीनों में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ा है. दोनों ही देशों के रक्षामंत्रियों ने एक दूसरे को सख़्त जवाबी कार्रवाई की धमकियां दी हैं.

बीते सप्ताह सुनजवां सेना कैंप पर हुए हमले में छह सैनिकों और एक नागरिक की मौत के बाद भारतीय सेना पर कार्रवाई का दबाव भी बढ़ रहा है.

बीते साल भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की 860 घटनाएं हुईं जबकि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर 120 बार गोलीबारी हुई.

वहीं पाकिस्तानी मीडिया में पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने की ख़बरें नहीं हैं.

पाकिस्तानी अख़बार डॉन पर 15 जनवरी को भारतीय गोलीबारी में चार सैनिकों की मौत की ख़बर के अलावा एलओसी पर पाकिस्तानी सैनिकों की मौत की और कोई ख़बर नहीं मिलती.

डॉन पर बुधवार को प्रकाशित एक ख़बर में पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी में एक भारतीय सैन्य चौकी के तबाह होने और पांच सैनिकों के मारे जाने का दावा किया गया है.

हालांकि भारतीय सेना की ओर से ऐसे किसी हमले की कोई पुष्टि नहीं की गई है.

पाकिस्तानी सेना का कहना है कि गोलीबारी भारत के हमले में एक स्कूली बस के ड्राइवर की मौत के जवाब में की गई है. पाकिस्तानी सेना ने दावा किया है कि इस स्कूली वैन में चार बच्चे सवार थे जब ये भारतीय सेना की गोलीबारी के दायरे में आ गई.

पाकिस्तानी अख़बारों में पाकिस्तानी सैनिकों की बहादुरी के क़िस्से हैं.

सीमा के दोनों ओर मुख्यधारा की मीडिया सेना को हिंसक कार्रवाइयां करने के लिए उकसा रही हैं.

स्रोतः द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, डॉन न्यूज़

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...