ख़बरें

नहीं मिले आलू की फसल के दाम, किसान ने दी जान

तर्कसंगत

February 16, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के फ़िरोज़ाबाद ज़िले में आलू के एक किसान ने फ़सल के सही दाम न मिलने से आहत होकर आत्महत्या कर ली है.

स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक शिकोहाबाद क़स्बे के छीछामऊ गांव के रहने वाले सतीश चंद्र ने साहूकारों से ऊंची ब्याज़ पर क़र्ज़ लेकर आलू की खेती की थी.

लेकिन फसल के सही दाम उन्हें नहीं मिल पाए और वो क़र्ज़ नहीं चुका पाए. गुरुवार को उन्होंने अपने आप को गोली मारकर जान दे दी.

वहीं सतीश कुमार ने अपने सुसाइड नोट में क़र्ज़ के लिए परेशान करने वाले कई लोगों का ज़िक्र किया है. पुलिस का कहना है कि इन लोगों पर एफ़आईआर दर्ज की जा रही है.

 

पुलिस के मुताबिक सतीश चंद्र ने अधिकतर कर्ज़ लौटा दिया था और कुछ ही क़र्ज़ वापस रह गया था जिसके लिए उन्हें परेशान किया जा रहा था.

वहीं सतीश चंद्र के परिवार का कहना है कि उन पर किसान क्रेडिट कार्ड का भी कुछ क़र्ज़ बकाया था.

सतीश के परिजनों का कहना है कि उन्होंने अपनी ज़मीन पर आलू बोने के अलावा कुछ और खेत किराए पर लेकर उनमें आलू की फसल लगाई थी.

लेकिन अच्छी पैदावार के बावजूद बाज़ार में सही दाम न होने की वजह से उन्हें लगातार घाटा हो रहा था.

परिजनों के मुताबिक सिर्फ़ ब्याज़ ही इतना ज़्यादा जा रहा था कि उसे चुकाना सतीश के लिए मुश्किल होता जा रहा था.

वहीं परिजनों का आरोप है कि आत्महत्या से एक दिन पहले भी एक साहूकार अपना कर्ज़ मांगने सतीश के घर आया था और असमर्थता जताने पर उन्हें धमकाया था और बदतमीज़ी की थी.

उत्तर प्रदेश के आगरा, फ़िरोज़ाबाद और फ़र्रूख़ाबाद इलाक़े में किसान बड़े पैमाने पर आलू की खेती करते हैं.

पिछले दो-तीन सालों से आलू की फसल तो बहुत अच्छी हो रही है लेकिन किसानों को बाज़ार में फसल का सही दाम नहीं मिल पा रहा है जिसकी वजह से किसानों और आलू व्यापारियों को भारी नुक़सान उठाना पड़ रहा है.

बहुत से किसान अधिक क्षेत्र में आलू लगाने के लिए दूसरों की ज़मीन भी बट्टे पर लेते हैं. कुछ साल पहले तक आलू फ़ायदे की खेती हुआ करती थी और किसान अच्छी कमाई कर लिया करते थे.

लेकिन बंपर पैदावार की वजह से किसानों को बाज़ार में आलू का भाव नहीं मिल पा रहा है.

हालात कितने भयावह हैं इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि हाल ही में आगरा में किसानों ने हज़ारों टन आलू फेंक दिया था.

आलू की फसल के दाम न मिल पाने से आहत कुछ किसानों ने उत्तर प्रदेश विधानसभा और मुख्यमंत्री आवास के बाहर आलू फेंक दिए थे.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...