ख़बरें

छात्रा की सूझबूझ ने नहाते हुए वीडियो बना रहे व्यापारी को पहुंचाया जेल

तर्कसंगत

February 23, 2018

SHARES

दिल्ली में एक छात्रा की सूझबूझ ने होटल में तांक-झांक कर रहे और नहाते हुए छात्रा का वीडियो बना रहे एक व्यापारी को हवालात पहुंचा दिया.

दरअसल स्कूल के टूर पर आई एक छात्रा होटल के वॉशरूम में नहा रही थी. इसी दौरान बगल के कमरे में मौजूद एक व्यापारी ने उसका वीडियो बनाने की कोशिश की.

ये घटना दिल्ली के कीर्ति नगर के एक होटल में हुई है. पुलिस ने छात्रा के शिक्षकों की ओर से दी गई शिकायत पर व्यापारी को गिरफ़्तार कर लिया है.

नहाने के दौरान छात्रा ने वॉशरूम के एयरवेंट के पास कुछ हलचल देखी. ध्यान से देखने पर उसे मोबाइल फ़ोन नज़र आया.

छात्रा ने इसकी सूचना तुरंत अपने शिक्षकों को दी जिन्होंने होटल स्टॉफ़ और पुलिस को सूचित किया.

द हिंदू अख़बार में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक चैन्नई के रहने वाले दीपक बोरा अपने दो दोस्तों के साथ बराबर के कमरे में थे.

पुलिस जब दीपक बोरा के कमरे में पहुंची तो उन्होंने सारा इल्ज़ाम अपने दोस्तों पर लगा दिया और बहाना बनाया कि घटना के वक़्त वो सो रहे थे.

हालांकि पुलिस पूछताछ के दौरान दोनों दोस्तों के मोबाइल से कुछ भी आपत्तिजनक नहीं निकला.

बाद में पुलिस ने पूछताछ के लिए दीपक बोरा को हिरासत में लिया और उनके मोबाइल को ज़ब्त कर फ़ोरेंसिक सबूत जुटाने के लिए लैब भेज दिया.

ये पूरी घटना बुधवार सुबह हुई. छात्रा अपने शिक्षकों और 140 अन्य छात्रों के साथ टूर पर आई थी.

दिल्ली पुलिस ने सूझबूझ दिखाने वाली छात्रा की तारीफ़ की है.

पुलिस ने दीपक बोरा को तांक-झांक करने और आईटी एक्ट की धाराओं के तहत गिरफ़्तार किया है.

भारतीय दंड संहिता की धारा 354सी के तहत महिलाओं की तांक-झांक करना अपराध है जिसमें पहली बार दोषी पाए जाने पर एक साल की सज़ा और जुर्माना हो सकता है.

तांक-झांक करने का मतलब महिलाओं को ऐसी स्थिति में देखना है जब वो नहाने या कपड़े बदलने जैसे बेहद निजी काम कर रही होती हैं.

इस मामले में छात्रा ने सूझबूझ दिखाते हुए अभियुक्त को पकड़वा दिया. इससे ये भी ज़ाहिर होता है कि होटल जैसे सार्वजनिक स्थान सुरक्षित नहीं हैं और वहां नहाते हुए या कपड़े बदलते हुए महिलाओं को सावधानी बरतनी चाहिए.

महिलाओं के छुपकर बनाए गए वीडियो कई बार पोर्न वेबसाइटों पर डाल दिए जाते हैं. इनके आधार पर ब्लैकमेल भी किया जाता है.

ऐसे में किसी भी ऐसी परिस्थिति में होने के बजाए सावधान रहना और तुरंत पुलिस को सूचित करना बेहतर विकल्प है.

स्रोतः द हिंदू

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...