ख़बरें

होली पर वसूली न देने पर दरोगा की पत्नी की हत्या, बेटे को गोली मारी

तर्कसंगत

March 3, 2018

SHARES

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में हुई हत्या की एक वारदात ने प्रदेश की क़ानून व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं.

मेरठ में होली से एक दिन पहले शराब के लिए पैसे न देने पर बदमाशों ने एक दरोगी की पत्नी की हत्या कर दी और बेटे को गोली मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया.

स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अर्जुन राणा नाम के एक बदमाश ने अपने साथियों के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया.

शहर के शास्त्रीनगर इलाक़े में रहने वाले दरोगा की होली के मौक़े पर आगरा में पोस्टिंग की गई थी.

इस दौरान होली की पूर्व संध्या उनका बेटा कवींद्र घर से सामान लेने बाहर निकला था जिससे स्थानीय बदमाशों ने होली पर शराब पीने के लिए पांच सौ रुपए की वसूली मांगी.

मना करने पर बदमाशों ने पिस्टल निकाल ली. बात बढ़ी तो अर्जुन ने कवींद्र पर गोली दाग दी. शोर सुनकर बाहर आई कवींद्र की मां सुमन बेटे की जान बचाने के लिए अर्जुन के सामने आ गईं जिसने उन पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं.

सुमन की मौके पर ही मौत हो गई जबकि कवींद्र को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

दरोगी की पत्नी की हत्या और बेटे पर जानलेवा हमला उस उत्तर प्रदेश में हुआ है जहां पुलिस ने अपराधियों को ख़त्म करने के लिए एनकाउंटर अभियान चलाया हुआ है.

पुलिस ने यूपी में बीते एक साल में एक हज़ार से अधिक एनकाउंटर किए हैं और तीन दर्जन से अधिक कथित अपराधियों को मारने का दावा किया है.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई बार बयान देकर कह चुके हैं कि यूपी में अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है.

लेकिन मेरठ में हुई क़त्ल की इस वारदात ने सरकार के तमाम दावों की पोल खोल दी है.

स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अर्जुन लंबे समय से इलाक़े के लोगों से वसूली कर रहा था.

उसका मन इतना बढ़ गया था कि वो पुलिसकर्मियों के परिवारों तक से वसूली कर रहा था.

इस घटना से एक दिन पहले ही मेरठ में ही एक हिस्ट्रीशीटर बदमाश के बेटे की गोली से एक राहगीर मारा गया था.

मेरठ के ही पटेलनगर इलाक़े में मंगलवार को एक हाजी गल्ला नाम के एक अपराधी के बेटे शादाब की पिस्टल से चली गोली से अजय नाम का एक राहगीर मारा गया था.

शादाब भी एक व्यापारी से वसूली कर रहा था जिस दौरान उसने ये गोली चला दी थी.

उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े शहरों में से एक मेरठ में हुईं ये वारदातें पूरे प्रांत की पुलिस पर गंभीर सवाल खड़े कर रही हैं.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...