ख़बरें

मेरठः ‘दलित दंगाइयों’ की सूची में शामिल नंबर एक की गोली मारकर हत्या

तर्कसंगत

April 6, 2018

SHARES

दो अप्रैल को बुलाए गए दलितों के भारत बंद के बाद उत्तर प्रदेश के मेरठ में बंद में शामिल एक दलित युवक की हत्या कर दी गई है.

अख़बार इंडियन एक्स्प्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक दलित युवक गोपी पारिया को पांच गोलियां मारी गई हैं.

दो अप्रैल को बुलाए गए बंध के बाद मेरठ के पास शोभापुर में बंद में शामिल दलितों की एक कथित सूची सोशल मीडिया पर घूम रही थी.

शोभापुर के दलित दंगाईयोंके नाम की इस सूची में शामिल 83 नामों में पहला नाम गोपी पारिया का था

गोपी के पिता ताराचंद बहुजन समाज पार्टी के स्थानीय नेता हैं. उनकी शिकायत पर चार लोगों के ख़िलाफ़ हत्या का मुक़दमा दर्ज किया गया है.

एफ़आईआर में शोभापुर के ही रहने वाले मनोज गुज्जर, आशीष गुज्जर, कपिल राणा और गिरधारी को अभियुक्त बनाया गया है.

पुलिस के मुताबिक मनोज और कपिल को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

दलित युवाओं की सूची जारी किए जाने के बाद शोभापुर के अधिकतर दलित युवा गांव छोड़कर चले गए थे.

लेकिन गोपी अपने गांव में ही रहे. उनके पिता ताराचंद का कहना है कि गोपी ने गांव में रहने की क़ीमत जान देकर चुकाई.

गोपी के छोटे भाई प्रशांत का नाम सूची में पांचवे नंबर पर है. अभी ये पता नहीं चला है कि ये सूची किसने तैयार की है.

चार दिन पहले दो अप्रैल को बुलाए गए भारतबंद में मेरठ में शोभापुर में ही सबसे ज़्यादा आगजनी हुई थी.

दलित बहुल शोभापुर के बाहर पुलिस चौकी को भी भूंक दिया गया था.

प्रशांत के मुताबिक उनके भाई गोपी भी अपने पिता की ही तरह बहुजन समाज पार्टी के स्थानीय नेता  थे.

स्थानीय लोगों के मुताबिक शोभापुर में दलितों और अन्य जातियों के बीच तीन दशकों से तनाव है.

स्रोतः इंडियन एक्सप्रेस

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...