ख़बरें

विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगानी नाबालिग के पिता की हिरासत में मौत

Poonam

April 9, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश में सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगाने वाली एक नाबालिग लड़की के पिता की संदिग्ध हालत में मौत हो गई है.

उन्नाव की एक 16 वर्षीय किशोरी ने भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर बलात्कार के आरोप लगाते हुए रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लखनऊ स्थित आवास के बाहर आत्मदाह का प्रयास किया था.

इस किशोरी के पिता को पुलिस हिरासत में लिया गया था जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था. सोमवार सुबह उनकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है.

स्थानीय प्रशासन और पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने तक कोई भी बयान देने से इनकार कर दिया है.

किशोरी ने आरोप लगाया था कि विधायक और उनके कुछ साथियों ने उसके साथ गैंगरेप किया था जिसकी रिपोर्ट लिखाने के बाद से उस पर उसके परिवार पर दबाव बनाया जा रहा है.

किशोरी ने ये भी कहा था कि उसे और उसके परिवार को विधायक से ख़तरा है और उन्हें नुक़सान पहुंचाया जा सकता है.

हालांकि विधायक कुलदीप सेंगर ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए इन्हें अपने ख़िलाफ़ राजनीतिक साज़िश क़रार दिया है.

कुलदीप सेंगर ने कहा है कि पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाए और दोषी सिद्ध होने पर उन्हें सज़ा दी जाए.

क्या है मामला

किशोरी ने विधायक पर आरोप लगाया है कि उन्होंने और उनके कुछ साथियों ने उसके साथ एक साल पहले गैंगरेप किया.

किशोरी का आरोप है कि स्थानीय पुलिस ने उसकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया और उल्टे उसके ही परिवार का शोषण किया.

आत्मदाह का प्रयास

पुलिस की उदासीनता से निराश किशोरी ने रविवार को मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह का प्रयास किया था. वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उसे बचाकर अस्पताल पहुंचाया था. बाद में किशोरी यूपी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से भी मिली थी जिन्होंने निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया था.

परिवार पर हमला और मुक़दमा

किशोरी का आरोप है कि एक सप्ताह पहले विधायक के इशारे पर उनके परिवार पर हमला किया गया और उसके ही पिता के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज करवा दिया गया.

किशोरी ने पुलिस पर विधायक के दबाव में आकर अपने परिवार का शोषण करने के आरोप लगाए थे. किशोरी के पिता को पुलिस हिरासत में लिया लिया गया था.

संदिग्ध मौत

रविवार सुबह ज़िला अस्पताल में भर्ती किशोरी के पिता की मौत की ख़बर आई. स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबकि किशोरी के पिता को पुलिस हिरासत से न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था. जहां उन्होंने अपने पेट में दर्द की शिकायत की और उन्हें अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल में उन्होंने दम तोड़ दिया.

मृतक के परिवार का आरोप है कि पुलिस हिसासत में उनके साथ बुरी तरह मारपीट की गई थी और उन पर विधायक के ख़िलाफ़ की गई शिकायत को वापस लेने का दबाव बनाया गया था.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...