ख़बरें

अब स्वामी से बलात्कार के आरोप वापस लेगी योगी सरकार

तर्कसंगत

April 10, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने अपने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गोरखपुर दंगों और मुजफ्फ़रनगर के दंगों के मामलों में कई अभियुक्तों से मुक़दमे वापस लेने के फ़ैसले के बाद अब स्वामी चिन्मयानंद  पर दर्ज बलात्कार का मुक़दमा वापस लेने का फ़ैसला लिया है.

स्वामी चिन्मयानंद पूर्व सांसद हैं और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में राज्यमंत्री रह चुके हैं.

स्वामी के साथ रहने वाली एक साध्वी ने उन पर बलात्कार करने और लंबे समय तक यौन शोषण करने के आरोप में मुक़दमा दर्ज करवाया था.

ये मुकदमा शाहजहांपुर कोतवाली में नवंबर 2011 में दर्ज हुआ था. साध्वी ने स्वामी पर जान से मारने की धमकी देने के आरोप भी लगाए थे.

सात साल पहले दर्ज हुए इस मुक़दमे के बाद स्वामी ने हाई कोर्ट से अपनी गिरफ़्तारी पर स्टे ले लिया था. तब से इस मामले की जांच चल रही है.

अब उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने स्वामी चिन्मयानंद से मुक़दमा वापस लेने का फ़ैसला लिया है.

इस निर्णय से पहले योगी आदित्यनाथ ने चिन्मयानंद के मुमुक्षु आश्रम का दौरा किया था. यही नहीं शाहजहांपुर ज़िले के कई वरिष्ठ अधिकारियों के स्वामी की आरती उतारते हुए तस्वीर भी वायरल हुई थी.

रेप और शोषण के आरोप लगाने वाली साध्वी के पति ने यूपी सरकार के केस वापस लेने के फ़ैसले को अन्याय बताते हुए कहा है कि यौन शोषण का शिकार महिलाओं को न्याय दिलाना सरकार की ज़िम्मेदारी है.

उन्होंने फ़ेसबुक पर किए एक पोस्ट में कहा, “सरकार की प्राथमिकता पीड़ित को न्याय दिलाना होनी चाहिए न की मुक़दमे वापस करना.”

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...