ख़बरें

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता का अंतिम संस्कार रोका जाएः हाई कोर्ट

Poonam

April 11, 2018

SHARES

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा है कि यदि उन्नाव की कथित गैंगरेप पीड़िता के पिता का अंतिम संस्कार नहीं किया गया है तो अब अंतिम संस्कार न किया जाए.

गैंगरेप पीड़िता के पिता की सोमवार सुबह उन्नाव जेल में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

न्यायिक हिरासत में जेल में बंद गैंगरेप पीड़िता के पिता  की तबियत ख़राब होने पर उन्हें सोमवार सुबह अस्पताल ले जाया गया था जहां उनकी मौत हो गई.

मृतक की बेटी ने उन्नाव से विधायक कुलदीप सेंगर, उनके भाई और सहयोगियों के ख़िलाफ़ गैंगरेप के आरोप लगाए हैं.

हालांकि विधायक ने आरोपों को ख़ारिज करते हुए इन्हें रंज़िश से प्रेरित बताया है.

फिलहाल पुलिस ने विधायक के भाई और तीन अन्य लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है.

आरोप है कि युवती के पिता को बुरी तरह पीटा गया था और फिर पुलिस पर दबाव बनवाकर जेल भिजवा दिया गया था.

मामले के मीडिया में आने के बाद माखी थाने के प्रभारी समेत छह पुलिसकर्मियों को भी निलंबित कर दिया गया है.

हाई कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल स्वरूप चतुर्वेदी ने मुख्य न्यायधीश डीबी भोसले को पत्र लिखकर घटना के बारे में विस्तार से बताया है.

घटना का संज्ञान लेते हुए हाईकोर्ट ने अब ये आदेश पारित किया है.

अदालत ने कहा है, “यदि शव का अभी तक अंतिम संस्कार नहीं किया गया है तो अंतिम संस्कार न किया जाए.”

इस मामले की अगली सुनवाई अब 12 अप्रैल को होगी. अदालत ने प्रदेश सरकार से मामले में अपना पक्ष स्पष्ट करने के लिए कहा है.

उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई की जांच की मांग करने वाली याचिका पर अगले सप्ताह सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई होनी है.

उन्नाव की कथित गैंगरेप पीड़िता ने रविवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के घर के बाहर आत्मदाह का प्रयास किया था.

 

इसके अगले दिन ही न्यायिक हिरासत में जेल में बंद उसके पिता की संदिग्ध मौत हो गई थी.

जो वीडियो और तस्वीरें सामने आई हैं उनमें उसके पिता के शरीर पर चोटों के निशान दिख रहे हैं.

बुरी तरह घायल होने के बावजूद डॉक्टरों ने उन्हें स्वस्थ बताते हुए जेल भेजने की संस्तुति कर दी थी.

पीड़िता का आरोप है कि योगी आदित्यनाथ ने उसकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया.

इस मामले के सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...