ग्वालियर की तस्वीर

ख़बरें

शर्मनाकः सौ रुपए न होने पर घायल बेटे को गठरी की तरह बांधकर भर्ती कराने पर मजबूर हुआ पिता

तर्कसंगत

June 15, 2017

SHARES

Source: Dainik Bhaskar

भारत की स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल उठाने वाली तस्वीरें देश के कोने-कोने से आती रहती हैं.

कभी लाश को कंधे पर ढोने की तस्वीर आती है तो कभी फ़र्श पर ही खाना परोसे जाने की.

अब ऐसी ही एक तस्वीर आई है ग्वालियर से जिसमें एक पिता अपने घायल बेटे की गठरी बनाकर उसे अस्पताल ले जाता दिख रहा है.

दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक ग्वालियर के सबसे बड़े अस्पताल जेएएच के ट्रामा सेंटर में घायल बेटे को लेकर पहुंचे एक पिता को स्ट्रेचर ही नहीं मिला.

मजबूर पिता को अपने बेटे को प्लास्टिक की बोरियों से सिलकर बनाई गई फट्टी से बांधकर अपने बेटे को भर्ती कराने के लिए लाना पड़ा.

दरअसल, घायल युवक के पिता कैलाश सिंह के पास स्ट्रेचर के बदले जमा कराने के लिए सौ रुपए नहीं थे.

कैलाश सिंह मुरैना के कैंथर के रहने वाले हैं. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक 30 वर्षीय कैलाश कुएं में गिरने से घायल हो गए थे.

उन्हें पहले मुरैना ज़िला अस्पताल ले जाया गया था बाद में जेएएच के लिए रैफ़र कर दिया गया.

अस्पताल में स्ट्रेचर के बदले सौ रुपए बतौर गारंटी जमा की जाती है. कैलाश जब सौ रुपए जमा नहीं करा सके तो उन्हें स्ट्रेचर नहीं दिया गया.

ऐसे में मजबूर होकर उन्हें अपने घायल बेटो को गठरी की तरह प्लास्टिक की बोरियों में बांधना पड़ा.

अस्पताल प्रशासन का कहना है कि स्ट्रेचर गुम न हो इसलिए सौ रुपए सिक्यूरिटी जमा करने की व्यवस्था की गई है.

रिपोर्ट के मुताबिक जेएएच ग्वालियर अंचल का सबसे बड़ा अस्पताल है और इसका सालाना बजट 9 करोड़ रुपए का है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...