ख़बरें

बैंक खाता खोलने और 50 हज़ार से अधिक जमा करने के लिए जरूरी हुआ आधार

Poonam

June 16, 2017

SHARES

भारत सरकार ने नए नियम जारी कर बैंकों खाता खोलने और पचास हज़ार रुपए से अधिक जमा करने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है.

नए नियमों से नागरिकों के बॉयोमैट्रिक डाटा वाले १२ अंकों के आधार नंबर के इस्तेमाल का दायरा और बढ़ गया है.

भारत के 99 प्रतिशत नागरिकों के पास आधार कार्ड हैं.

नए नियमों के तहत

  1. नया बैंक खाता खोलने के लिए आधार अनिवार्य होगा.
  2. पचास हज़ार रुपए से अधिक के वित्तिय लेनदेन के लिए आधार कार्ड देना अनिवार्य होगा
  3. इस साल के अंत तक आधार कार्ड न जमा करने की स्थिति में मौजूदा बैंक खाते रद्द हो जाएंगे.

इस साल के बजट में भारत सरकार ने नागरिकों के आधार कार्ड को पैन कार्ड से जोड़ना अनिवार्य कर दिया था.

ऐसा लोगों के टैक्स से बचने के लिए कई पैन कार्ड इस्तेमाल करने को रोकने के उद्देश्य से किया जा रहा है.

मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम (रिकॉर्ड्स का रख-रखाव) नियमावली, 2005 में संशोधन कर लाई गई नई अधिसूचना के तहत लोगों, कंपनियों और पार्टनरशिप फ़र्मों को पचास हज़ार रुपए से अधिक के सभी वित्तिय लेनदेन के लिए पैन कार्ड या फ़र्म ६० के साथ आधार कार्ड देना अनिवार्य होगा.

इसके अलावा नए संशोधन  से ऐसे छोटे खातों जिन्हें अधिकृत तौर पर मान्य केवाईसी दस्तावेज़ों के बिना ही खोला जा सकता है, के लिए भी नियम सख़्त किए जाएंगे. ऐसे अकाउंट अब उन बैंक शाखाओं में ही खोले जा सकेंगे जहां कोर बैकिंग सेवाएं मौजूद होंगी.

राजस्व विभाग की अधिसूचना कहती हैः छोटे खातों पर भी नज़र रखी जाएगी और जब काले धन को सफेद किए जाने और आतंकवाद के लिए पैसे के इस्तेमाल या अति गंभीर स्थिति होगी तब खाताधार की पहचान दस्तावेज़ मुहैया कराकर स्पष्ट रूप से स्थापित की जाएगी.

आज के बाद से यदि कोई व्यक्ति बैंक खाता खोल रहा है तो उसे आधार कार्ड के आवेदन का नंबर और छह महीने के भीतर आधार कार्ड का नंबर देना होगा.

भारत सरकार ने ये नए नियम ऐसे समय में लागू किए हैं जब आधार कार्ड की वैधता को ही सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है.

आधार कार्ड को लेकर साइबर सुरक्षा और निजता और आधार डाटा के ग़लत इस्तेमाल का सवाल इस समय गंभीरता से उठ रहा है.

Image Credit: Patrika, Hindustan Times | Source: bloombergquint


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...