ख़बरें

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने एप बना चुरा लिया आधार डाटा

तर्कसंगत

August 4, 2017

SHARES

बैंगलुरु पुलिस ने एक 31 वर्षीय इंजीनियर को एप के ज़रिए आधार डाटा चुराने के आरोप में गिरफ़्तार किया है.

बीते सप्ताह यूआईडीएआई (यूनीक आईडेंटिफ़िकेशन अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया) ने अभिनव श्रीवास्तव नाम के इंजिनियर के ख़िलाफ़ शिकायत दी थी.

श्रीवास्तव एक निजी कंपनी में सॉफ़्टवेयर इंजीयनिर हैं. श्रीवास्तव पर आरोप है कि उन्होंने गूगल प्ले स्टोर पर एक एप आधार-ई-केवाईसी बनाकर करीब चालीस हज़ार लोगों का आधार डाटा हासिल किया.

ये जानकारी चुराने के लिए उन्होंने एक और सेवा ई-हॉस्पिटल का इस्तेमाल किया. ये सेवा आधार डाटा का इस्तेमाल करने के लिए यूआईडीएआई से अधिकृत है.

श्रीवास्तव ने लोगों का नाम, रहने का स्थान, ईमेल और मोबाइल नंबर आदि हासिल कर लिए थे. हालांकि बायोमैट्रिक डाटा तक वो नहीं पहुंच सके.

यूआईडीएआई ने क़रीब चार सौ संस्थाओं को आधार डाटा का इस्तेमाल करने के लिए अधिकृत किया है.

बैंगलुरू पुलिस की साइबर क्राइम टीम ने अपनी जांच में पाया कि अभिनव श्रीवास्तव ने पांच और एप्लीकेशन बना रखी हैं.

उनकी आधार-ई-केवाईसी एप्लीकेशन को पचास हज़ार से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.

पुलिस ने श्रीवास्तव के पास से चार लैपटॉप, एक टेबलेट, चार मोबाइल फ़ोन और छह पेन ड्राइव भी जब्त की हैं.

मूल रूप से कानपुर के रहने वाले श्रीवास्तव ने आईआईटी खड़गपुर से इंडस्ट्रियल केमिस्ट्री में स्नातक किया है. वो फिलहाल बैंगलुरु के यशवंतपुर इलाके में रहते हैं.

उन्होंने 2012 में अपनी कंपनी कॉर्थ टेक्नोलॉजी शुरू की थी जिसे मार्च 2016 में टैक्सी प्रदाता कंपनी ओला ने कार्थ टेक्नोलॉजी और उसके मोबाइल पेमेंट सिस्टम एक्स-पे को ख़रीद लिया था.

श्रीवास्तव ने बीते साल ओला की मूल कंपनी एएनआई टेक्नोलॉजी के साथ नौकरी शुरू की थी.

इस मामले का सबसे संवेदनशील पहलू ये है कि एक सॉफ़्टवेयर इंजीनियर एक एप्लीकेशन के ज़रिए लोगों का बेहद संवेदनशील और निजी डाटा चुराने में कामयाब रहा.

इससे आधार डाटा की सुरक्षा पर भी सवाल उठ रहे हैं. इससे पहले भी आधार डाटा लीक होने के कई मामले सामने आ चुके हैं.

डिजीटल युग में डिजीटल स्वरूप में जानकारियों का इस्तेमाल किया जा रहा है और ये इस्तेमाल और भी बढ़ रहा है. ऐसे में डिजीटल डाटा की सुरक्षा के लिए और कदम उठाए जाने की ज़रूरत भी महसूस हो रही है.

Courtesy: The Hindu, The Times of India | Image Credit: The Times of India, Jagran


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...