ख़बरें

बहू को बचाने के लिए सास ने अपने बेटे की ली जान

तर्कसंगत

August 18, 2017

SHARES

हमारे समाज में बहु को बेटी का दर्जा मिले ऐसा कम ही देखने को मिलता है लेकिन मुंबई की एक महिला ने अपनी बहू को बेटे से भी उपर का दर्जा दे दिया. आज जो खबर आप पढ़ने जा रहे हैं वो इसी बात की तस्दीक करती है.

मुंबई के मानखुर्द इलाके में एक मां ने अपने बेटे की जान ले ली ताकी उसकी बहू चैन से जी सके.

मंगलवार को अनवरी इदरीसी नाम की एक 45 वर्षीय महिला ने अपनी बहु को बेटे की मार से बचाने के लिए अपने बेटे को मार डाला. हालांकी महिला को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है. अनवरी इदरीसी ने कभी नहीं सोचा होगा की जिन हाथों से उसने अपने बेटे को पाला वही हाथ एक दिन उसकी जान ले लेंगे.

खबरों के मुताबिक़ नदीम नेम अपनी मां अनवरी इदरीसी, पत्नी, दो बड़े भाइयों और उनकी पत्नीओं के साथ मानखुर्द की अम्बेडकर चॉल में रहता था. नदीम नेम को नशे की बुरी लत थी.

दो साल पहले नदीम ने इलाहाबाद में रहने वाली एक महिला से शादी की थी, जो उसकी नशे की आदत से अनजान थी. शादी के पांच महीने बाद ही नदीम की पत्नी ने रोज़रोज़ की मारपिटाई के चलते ससुराल छोड़ दिया था.

अनवरी को बिल्कुल अच्छा नहीं लगा कि बहू घर छोड़ कर जाए. उसने बहू को भरोसा दिलाया कि वो उसको पिटाई से बचाएगी और बेटे की नशे की आदत भी छुड़वायेगी. इस वादे के बाद बहू ससुराल वापस आ गई.

लेकिन जब मंगलवार की रात, नदीम नशे की हालत में घर आया, तब घर में पूरा परिवार मौजूद था. उस वक़्त अनवरी को लगा कि नदीम फिर से उसकी बहू को मारेगा, इसलिए उसने अपने बेटों और बहुओं को पड़ोसी के घर सोने के लिए भेज दिया.

मानखुर्द पुलिस थाने के इंस्पेक्टर चंद्रकांत लांडगे ने कहा, नदीम अपनी मां की इस बात को बर्दाश्त नहीं पाया और गुस्से में सबके जाने के बाद उसने अपनी मां को पीटना शुरू कर दिया. जब वो थक गया तो अनवरी ने उसे सीढ़ियों पर धकेलकर उसके गले को दुपट्टे से बांध दिया. थोड़ी देर में ही नदीम की सांसें रुक गयीं और बेजान हो गया.

पुलिस के अनुसार, नदीम के मरने के बाद, अनवरी उसके मृत शरीर के बगल में बैठ पूरी रात रोती रही. जब सुबह 5:45 पर परिवार के लोग घर वापस आए तो देखा वो बैठी रो रही है. अनवरी ने घर वालों के सामने कहा कि उसने ही नदीम को मारा है, ताकि बहू रोज की पिटाई से बच जाए.

पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत उसे हत्या के मामले में गिरफ़्तार कर लिया.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...