ख़बरें

घर के बाहर ही कर दी गई थी राम रहीम के रेप केस को खोलने वाले पत्रकार की हत्या

तर्कसंगत

August 25, 2017

SHARES

सीबीआई अदालत को आज धर्मगुरू गुरमीत सिंह राम रहीम पर चल रहे बलात्कार के मामले में फ़ैसला सुनाना है.

जिस पत्रकार ने 2002 में गुरमीत राम रहीम के ख़िलाफ़ लगे बलात्कार के आरोपों पर ख़बर दी थी उसकी पंद्रह साल पहले उसके घर के बाहर ही हत्या कर दी गई थी.

पत्रकार की हत्या के मामले की जांच भी सीबीआई कर रही है.

पत्रकार राम चंदर छत्रपति की हत्या के मामले की सुनवाई भी आखिरी दौर में है.

स्थानीय अख़बार पूरा सच चलाने वाले पत्रकार राम चंदर छत्रपति ने ही सबसे पहले सिरसा के आश्रम में दो साध्वियों के साथ हुए बलात्कार के बारे में ख़बरें प्रकाशित की थीं.

छत्रपति ने पीड़ित साध्वियों के प्रधानमंत्री को लिखे गुमनाम पत्र को अपने अख़बार में प्रकाशित कर दिया था.

24 अक्तूर 2002 को छत्रपति की उनके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

फिहला छत्रति के बेटे अंशुल अपने पिता को न्याय दिलाने के लिए अकेले ही संघर्ष कर रहे हैं.

हालांकि अब तक उनका संघर्ष बेनतीजा ही रहा है.

उस समय लिखा गया वो ग़ुमनाम खत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम लिखा गया था. साथ ही कई शीर्ष संस्थानों के प्रमुखों को भी वो ख़त भेजा गया था.

खत विस्तार से बताया गया था कि गुरमीत राम रहीम किस तरह सिरसा के अपने आश्रम में महिलाओं का यौन शौषण करते हैं,

तीन पन्नों के उस ख़त का संज्ञान पंजाब और हरयाणा हाईकोर्ट ने लिया था और सिरसा के सत्र न्यायालय को जांच शुरू करने का आदेश दिया था.

जज ने केंद्रीय जांच ब्यूरौ से जांच कराने की संस्तुति की थी जिसके बाद हाई कोर्ट के कहने पर सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की थी.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...