ख़बरें

गुरुवार को हुए दो रेल हादसे, तीसरा ग्रामीणों ने होने से बचा लिया

Poonam

September 7, 2017

SHARES

गुरुवार को दो रेल हादसे हुए. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में शक्तिपुंज एक्सप्रेस के सात डिब्बे पटरी से उतर गए जबिक दिल्ली में रांची राजधानी का इंजन और इलेक्ट्रिक कार पटरी से उतर गए.

एक और बड़ा हादसा उत्तर प्रदेश के फ़र्रूख़ाबाद और फत़ेहगढ़ के बीच में हो सकता था लेकिन यहां ग्रामीणों की सूझबूझ से ये हादसा टल गया.

दिल्ली-कानपुर कालिंदी एक्सप्रेस के ट्रैक से गुज़रने के कुछ ही मिनट पहले स्थानीय लोगों ने ट्रैक में तीन इंच गहरा फ्रैक्चर देखा.

ग्रामीणों ने सूझबूझ दिखाते हुए लाल रंग की टीशर्ट का झंडे के तौर पर इस्तेमाल किया.

एक्सप्रेस के ड्राइवर ने चेतावनी को देखकर जहां ट्रैक टूटा था उससे कुछ दूर पहले ट्रेन सही सलामत रोक ली.

स्थानीय पुलिस ने रेलवे अधिकारियों के साथ मिलकर घटनास्थल का दौरा किया.

तीस मिनट के अंतराल के बाद ट्रेन अपने गंतव्य स्थान के लिए रवाना हो गई.

पुलिस का कहना है कि ट्रैक में हुए फ्रैक्चर की जांच की जा रही है.

हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश में कई बड़े रेल हादसे हुए हैं. मुज़फ्फरनगर के खतौली में ट्रेन के पलट जाने से दर्जनों लोग मारे गए थे.

ग्रामीणों ने सूझबूझ दिखाते हुए एक हादसा होने से बचा लिया.

रेलवे में सुरक्षा एक बड़ा सवाल बन गया है. पिछले रेल मंत्री सुरेश प्रभु को हादसे न रोक पाने की वजह से अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा.

लेकिन अब सवाल उठ रहा है कि क्या प्रभु का इस्तीफ़ा रेल हादसे रोकने के लिए काफ़ी है या और भी अधिक क़दम उठाए जाने की ज़रूरत है.

जवाब स्पष्ट है, रेलवे को हादसे रोकने के लिए ठोस क़दम उठाने की ज़रूरत है.

सावधान रहना इस दिशा में पहला क़दम हो सकता है.

तस्वीरः प्रतीकात्मक


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...