ख़बरें

शराब का प्याला गिरा तो गार्ड ने ली दो बच्चों की जान

तर्कसंगत

September 12, 2017

SHARES

उत्तर प्रदेश के एटा में बच्चों हाथ लगने से शराब का प्याला गिरने से गुस्साए सुरक्षा गार्ड ने गोली मारकर दो बच्चों की हत्या कर दी.

एटा के अलीगंज के थाना जसरथपुर के गांव देवतरिया के रहने वाले योगेंद्र उर्फ़ छोटे गाज़ियाबाद में सुरक्षा गार्ड की नौकरी करता है.

छुट्टी पर गांव आया योगेंद्र सोमवार शाम शराब पी रहा था. वह गांव के ही इदरीश के घर के बाहर बैठा था.

इस दौरान वहीं खेल रहे इदरीश का तीन साल का बेटा शान मोहम्मद और छह साल की बेटी गुल-अफ़शा पड़ोस की बच्ची सोनी के साथ खेल रही थी.

खेलते हुए बच्चों का हाथ सुरेंद्र के शराब के प्याले पर लग गया और शराब गिर गई. जिससे गुस्साए सुरेंद्र ने बच्चों पर गोली चला दी.

गोली लगने से गुल अफ़शा और उसके भाई शान मोहम्मद की मौके पर ही मौत हो गई जबकि सोनी गोली लगने से घायल हो गई.

एक शराबी गार्ड के चंद पलों के गुस्से ने दो मासूम बच्चों की जान ले ली और तीसरी बच्ची ज़िंदगी और मौत से जंग लड़ रही है.

ये दिल झकझोर देने वाली घटना देश के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली से दूर की है इसलिए सुर्ख़ियों में नहीं है.

लेकिन इससे न मारे गए बच्चे की ज़िदगी का मोल कम हो जाता है न उनकी सुरक्षा का सवाल.

जिस गार्ड ने गोली चलाकर दो बच्चों की जान ले ली और एक तीसरी बच्ची को घायल कर दिया सरकार ने उसे बंदूक का लाइसेंस लोगों की सुरक्षा करने के लिए दिया है.

गार्ड ने जो किया क्या उसके लिए सिर्फ़ शराब का नशा ज़िम्मेदार है या और भी कारण है? इन सवालों के जवाब मिलने में वक़्त लगेगा.

तब तक हमें ख़ुद से ये सवाल पूछना चाहिए कि एटा में मारे गए इन बच्चों की मौत पर मातम क्यों नहीं?

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...