ख़बरें

यूपी में भीड़ ने हिंदू-मुस्लिम दंपती को घेरा, पुलिस ने बचाया

तर्कसंगत

September 25, 2017

SHARES

क्या अब भार में इश्क़ भी धर्म देखकर करना होगा? कम से कम हिंदूवादी कार्यकर्ता तो यही चाहते हैं.

अलीगढ़ में मुस्लिम युवक के साथ दिखने पर हिंदू छात्रा की पिटाई के बाद अब हापुड़ में एक अंतर धार्मिक दंपती को हिंदूवादी संगठनों के ग़ुस्से का शिकार होना पड़ा है.

अंग्रेज़ी अख़बार द हिंदू की एक रिपोर्ट के मुताबिक मूल रूप से बिहार का रहने वाला एक हिंदू-मुस्लिम दंपति हापुड़ में रह रहा है.

रविवार को संघ परिवार, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद से जुड़े कार्यकर्ताओं ने इस दंपती के साथ मारपीट करने की कोशिश की.

दंपती ने मदद के लिए पुलिस को कॉल की. मौके पर पहुंची पुलिस को दंपती को बचाने के लिए हिंदूवादी कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करना पड़ा.

विद्या श्रीवास्तव और शोएब आलम ने अदालत में शादी की है और दोनों हापुड़ के देवलोक कॉलोनी में रहते हैं.

उनके घर का घेराव करने वाली भीड़ ने उग्र नारेबाज़ी भी की थी.

मूलरूप से बिहार के सीतामढ़ी के रहने वाले शोएब आलम और विद्या श्रीवास्तव को प्यार हो गया था और दोनों ने अपने परिवारों की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ जाकर शादी की है.

भारत का संविधान किसी भी बालिग व्यक्ति को अपनी पसंद के किसी भी बालिग व्यक्ति से शादी करने का अधिकार देता है.

लेकिन आजकल भारत के संवीधान में नागरिकों को मिला ये अधिकार हिंदूवादी संगठनों को रास नहीं आ रहा है.

उत्तर प्रदेश में अंतर धार्मिक दंपतियों को निशाना बनाने की इससे पहले भी कई वारदातें हो चुकी हैं.

स्थानीय विधायक विजय पाल ने मीडिया से कहा है कि लड़की के परिजनों ने हापुड़ पहुंचकर हिंदूवादी संगठनों से अपनी बेटी को बचाने की गुहार लगाई थी.

जबकि लड़की ने पुलिस को बयान दिया है कि वो अपनी मर्ज़ी से शोएब के साथ रह रही है.

पुलिस ने फिलहाल दंपती को अपनी सुरक्षा में रका है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...