ख़बरें

मां-बाप के क़ातिल न पकड़े जाने से हताश बेटी ने जान दी

तर्कसंगत

October 9, 2017

SHARES

उत्तर प्रदेश के मथुरा में मां-बाप के क़ातिल न पकड़े जाने से हताश एक बेटी ने आत्महत्या कर ली है.

19 साल की राखी ने शनिवार को ज़हर खा लिया था. रविवार को उसकी मौत हो गई.

जान देनें से पहले राखी ने सात महीनों तक अपने मां-बाप के क़ातिलों को पकड़वानें के लिए संघर्ष किया.

वो धरने पर बैठीं, सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाए, मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक को पत्र लिखा.

हर चौखट पर दस्तक दी लेकिन मां-बाप के क़ातिल नहीं पकड़े जा सके.

अपने सुसाइड नोट में राखी ने ये हताशा ज़ाहिर की है. राखी ने लिखा है, “मैं बेटी होने का फ़र्ज़ नहीं निभा सकी. हमारी किसी ने मदद नहीं की. कोई मंत्री-विधायक हमारे घर नहीं पहुंचा. मैं हाथ जोड़कर विनती करती हूं, मेरे भाई-बहन का ख़्याल रखा जाए. सरकार की ज़िम्मेदारी बनती है.”

मथुरा के अमर कालोनी में 47 वर्षीय बनवारी लाल और उनकी 45 वर्षीय पत्नी रविबाला की निर्माणाधीन मकान में मार्च 2017 सिर कुचलकर हत्या कर दी गई थी. तीन लाख रुपए का कैश भी लूट लिया गया था.

मकान बनने की वजह से राखी, उनकी बहन दीपा और भाई राहुल पड़ोसी के घर में सो रहे थे.

पुलिस ने हत्या का मुक़दमा दर्ज कर लिया था लेकिन कोई भी अपराधी गिरफ़्तार नहीं हो सका.

राखी ने हत्यारों की गिरफ़्तारी के लिए आमरण अनशन भी किया था. राखी ने अपना एक वीडियो बनाकर भी सोशल मीडिया पर शेयर किया था और लोगों से मदद की अपील की थी.

Source: Amar Ujala


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...