ख़बरें

झारखंडः राशन कार्ड से नहीं जुड़ा आधार, भूख से मर गई मासूम

तर्कसंगत

October 16, 2017

SHARES

झारखंड के सिडोगा ज़िले में कई दिनों तक खाना न मिलने की वजह से एक 11 साल की बच्ची की भूख से मौत हो गई है.

खाद्य सुरक्षा अधिकार के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं के मुताबिक मृतक बच्ची के परिवार का राशन कार्ड आधार के साथ न जुड़े होने की वजह से रद्द हो गया था जिस वजह से उसके परिवार को राशन नहीं मिल पा रहा था.

वेबसाइट स्क्रॉल डॉट इन की रिपोर्ट के मुताबिक लड़की की मौत पिछले पखवाड़े में हुई है.

स्कूल में दुर्गा पूजा की छुट्टी होने की वजह से लड़की को मिड डे मील भी नहीं मिल सका था जिसकी वजह से करीब आठ दिनों तक उसने कुछ नहीं खाया था.

कार्यकर्ताओं के मुताबिक संतोषी कुमारी नाम की 11 वर्षीय छात्रा ने अपनी मौत से पहले आठ दिनों तक लगभग कुछ भी नहीं खाया था.

संतोषी कुमारी की मौत पिछले महीने 28 सितंबर को हुई थी.  सिमडोगा के करीमाती गांव की रहने वाली संतोषी कुमारी के परिवार के पास न कोई ज़मीन है और न ही आय का कोई और साधन. उनका परिवार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत राशन पाने का हक़दार है.

स्थानीय मीडिया और राइट टू फ़ुड कैंपेन और नरेगा वॉच के जांच दल की स्वतंत्र रिपोर्ट के मुताबिक स्थानीय राशन डीलर ने पिछले छह महीनों से संतोषी के परिवार को राशन नहीं दिया था क्योंकि उनका राशन कार्ड आधार के साथ जोड़ा नहीं गया था.

खाद्य सुरक्षा क़ानून के तहत राशन लेने के लिए फरवरी में केंद्र सरकार ने आधार कार्ड को राशन कार्ड से जोड़ना ज़रूरी कर दिया था.

हालांकि 2013  के बाद से अपनी कई टिप्पणियों में सुप्रीम कोर्ट कह चुका है कि आधार को खाद्य सुरक्षा जैसी सहूलतें प्राप्त करने के लिए ज़रूरी नहीं किया जा सकता है.

बावजूद इसके झारखंड में प्रशासन का आधार को नागरिकों को मिलने वाली सहूलतों से जोड़ने पर खास ज़ोर है.

स्क्रॉल की रिपोर्ट के मुताबिक लातेहर में ज़िला आपूर्ति अधिकारी ने  30 सितंबर को एक आदेश जारी कर कहा था कि जिन लोगों के आधार कार्ड राशन कार्ड से नवंबर तक नहीं जोड़े गए उनके आधार कार्डों को रद्द कर दिया जाएगा.

संतोषी कुमारी की भूख से मौत के बाद राशन कार्ड के आधार से जोड़े जाने को अनिवार्य करने के मुद्दे पर एक बार फिर से बहस शुरू हुई है.

सिमडेगा के जिस गांव में संतोषी का परिवार रहता है वहां दस अन्य परिवारों को भी खाद्य वितरण सूची से हटा दिया गया है क्योंकि उन्होंने भी अपने आधार कार्ड राशन कार्ड के साथ नहीं जोड़े थे.

Source: Scroll.in


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...