ख़बरें

सूदखोरी से परेशान परिवार ने डीएम कार्यालय पर की सामूहिक आत्महत्या

तर्कसंगत

October 24, 2017

SHARES

तमिलनाडु के तिरूनेलवेली ज़िले में सूदखोरी से परेशान एक ग़रीब परिवार ने सोमवार को ज़िलाधिकारी के दफ़्तर के बाहर आग लगाकर सामूहिक आत्महत्या कर ली.

इसाकीमुत्थू ने अपनी बीवी और दो बच्चों के साथ केरोसिन का तेल छिड़क कर आग लगा ली.

इसाकीमुत्थू गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं जबकि उनकी दो नाबालिग बेटियों और पत्नी ने दम तोड़ दिया है.

1.45 लाख के कर्ज़ पर 2.34 लाख चुकाए

तीरूनेलवेली ज़िले के कासीधर्मन गांव के इसाकीमुत्थू ने अपने पड़ोसी सूदखोर मुथुलक्षमी और गणपतीराज से पूरा उधार न चुकाए जाने तक 10 प्रतिशत ब्याज़ दर पर 1.45 लाख रुपए का क़र्ज़ लिया था.

वे सूदखोरों को 2.34 लाख रुपए लौटा चुके थे लेकिन इसके बावजूद उन्हें बार बार कर्ज़ा चुकाने के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था.

इसाकीमुत्थू ने अपने बच्चों के सामने दिए जाने वाले कर्ज़ के तानों से परेशान होकर ज़िलाधीकारी कार्यालय में दो बार याचिका दायर की थी.

वे पुलिस के दख़ल के ज़रिए सूदखोरों से मुक्ति चाहते थे. शिकायतें दर्ज कराने के बावजूद इसाकीमुत्थू को प्रशासन से कोई राहत नहीं मिली.

इसाकीमुत्थू अपने बीवी-बच्चों के साथ सोमवार को ज़िलाधिकारी कार्यालय पहुंचे थे. उनके साथ उनके भाई गोपी भी गए थे.

गोपी ने मीडिया को बताया है कि जब वो चाय पीने गए थे तब उनके भाई ने आत्मघाती क़दम उठा लिया.

जब इसाकीमुत्थू ने अपनी बीवी और बच्चों के साथ आग लगाई तब शुरू में लोग मदद के लिए आगे नहीं आए.

कई लोग घटना की तस्वीरें और वीडियो लेने लगे.

कुछ देर बाद लोगों ने आग बुझाने की कोशिशें की. लेकिन तब तक देर हो चुकी थी. गंभीर अवस्था में चारों को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इसाकीमुत्थू की पत्नी और दोनों बेटियों ने दम तोड़ दिया.

हालांकि ज़िला प्रशासन का कहना है कि इसाकीमुत्थू की शिकायत पर कार्रवाई की जा रही थी.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...