ख़बरें

अधिकारिक आंकड़ाः नोटबंदी के बाद गईं 15 लाख नौकरियां

तर्कसंगत

November 8, 2017

SHARES

आज नोटबंदी को एक साल पूरा हो गया है. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते साल 8 नवंबर को जब पांच सौ और हज़ार रुपए के नोट बंद करने का ऐलान किया था तब उन्होंने दावा किया था कि इस फ़ैसले से कालाधन वापस आएगा और भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर लगाम लगेगी.

प्रधानमंत्री के दावे तो पूरे नहीं हुए लेकिन नोटबंदी से देश में बेरोज़गारी ज़रूर बड़ी है. इंडियन एक्सप्रैस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में जनवरी और अप्रैल के बीच 15 लाख नौकरियां चली गईं थीं.

अख़बार ने बात भारतीय अर्थव्यवस्था की निगरानी करने वाली संस्था सेंटर फॉर मोनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की ताज़ा रिपोर्ट के हवाले से कही है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में जनवरी 2017 से अप्रैल 2017 के बीचे बीते साल के मुक़ाबले 15 लाख नौकरियां कम थीं.

विस्तृत डाटा उपलब्ध न होने की वजह से देश में बेरोज़गारी के हालात का सटीक आंकलन नहीं किया जा सकता है लेकिन हर तिमाही में होने वाले लेबर ब्यूरो रोज़गार सर्वे के मुताबिक नोटबंदी के बाद देश में नौकरियों में भारी कमी आई है.

सीएमआईई के डाटा के मुताबिक जनवरी-अप्रैल 2017 में देश में 40.50 करोड़ लोगों के पास रोज़गार था जो सितंबर-दिसंबर 2016 के मुक़ाबले 15 लाख कम था.

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि जहां बेरोज़गार लोगों की संख्या 15 लाख बढ़ी थी वहीं स्वयं को बेरज़गार बताने वालों की तादाद 96 लाख तक थी.

बेरोज़गारी की ये झलक भारत सरकार की शीर्ष योजना प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना के डाटा में भी दिखाई देती है.

कौशल विकास योजना के डाटा के मुताबिक 30.67 लाख युवाओं को प्रशिक्षण दिया गया था लेकिन इनमें से सिर्फ़ 2.90 लाख को ही रोज़गार मिल सका. ये कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के अधिकारिक आंकड़े हैं.

यही नहीं देश की शीर्ष सूचीबद्ध कंपनियों में भी रोज़गार घटा है. 121 कंपनियों (जिनमें आईटी और वित्त क्षेत्र की कंपनियां शामिल नहीं है) का रोज़गार से जुड़ा डाटा दर्शाता है कि बीते दो सालों में कर्मचारियों की संख्या लगातार घटी है.

हालांकि फार्मा और ऑटोमोबाइल क्षेत्र की कई कंपनियों में रोज़गार बढ़ा है और इनके कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि हुई है.

सबसे ज़्यादा रोज़गार अबॉट इंडिया में सृजित हुआ है. यहां 3127 नए कर्मचारियों को नौकरी मिली है. इसके बाद सन फार्मा का नंबर है जिसमें 2769 नए कर्मचारी रखे गए हैं.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...