सप्रेक

उम्र 97 फिर भी योग गुरु

Poonam

November 13, 2017

SHARES

कहते हैं बढ़ती उम्र का असर सभी पर होता है. फर्क इतना होता है कि किसी पर कम, किसी पर कुछ ज्यादा और किसी पर कुछ पहले तो किसी पर बाद में. लेकिन तमिलनाडु के कोयंबटूर में रहने वाली एक 97 वर्षीय वी ननम्मल उम्र के इस पड़ाव पर भी योग का अभ्यास करती हैं और यही नहीं, इससे बढ़कर वे अन्य इच्छुक और उत्साही लोगों को योगा सिखाती भी हैं.

भारत की सबसे वृद्ध योग प्रशिक्षक वी ननम्मल आज भी 100 से अधिक छात्रों को योगा सिखाती हैं जिनमें सभी आयु वर्ग के लोग शामिल हैं. वी ननम्मल ने योग की मूल बातें अपने पिता से सीखी हैं. उनके पिता एक मार्शल आर्ट कलाकार थे. सुबह जल्दी जागने वाली नन्नाममल उठते ही पानी पीती हैं और अपने दांतो को साफ़ करने के लिए नीम का दातून इस्तेमाल करती हैंननम्मल दिन के समय फल, शहद के साथ दूध और हल्दी पाउडर जैसा स्वस्थ भोजन का सेवन करती हैं.

डेक्कन क्रॉनिकल के साथ बात करते हुए ननम्मल बताती हैं, ‘मेरे पतिसिद्धका अभ्यास करने के साथ ही खेती करते थे. इस प्रकार से शादी के बाद प्राकृतिक चिकित्सा के प्रति मेरे लगाव कि शुरुआत हुई. मैंने अपने जीवन में कभी भी योग के अभ्यास को नहीं छोड़ा और यही मेरे स्वास्थ्य का रहस्य है. मेरे द्वारा प्रति दिन किया जाने वाला भोजन भी फाइबर और कैल्शियम से अत्यंत समृद्ध होता है. मैं हर रोज एक अलग शाकाहारी व्यंजन के साथ कांजी लेती हूँ. हमारे द्वारा उपयोग की गई सभी सब्जियां हमारे अपने खेत में उगाई जाती हैं.

ननम्मल ने कोयम्बटूर में 20,000 से अधिक छात्र और उत्साही लोगों को योग का प्रशिक्षण देकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी अपना नाम दर्ज करवाने का प्रयास किया है. वर्तमान में उनका उद्देश्य महिलाओं और मुख्य रूप से कन्या छात्राओं को विशेष रूप से शादी के बाद, उनकी बहुत से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को हल करने के लिए विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में जाकर योग तकनीकों के बारे में जागरूकता पैदा करना है.

ननम्मल के बेटे वी एलुसामी बताते हैं, ‘उन्होंने दुनिया भर से कई योग महासंघों से आये प्रस्तावों को सिर्फ इसलिए रिजेक्ट करना पड़ गया, क्योंकि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती है.

वी ननम्मल से योग का प्रशिक्षण लिए हुए लगभग 600 लोग आज योग प्रशिक्षक कि भूमिका में हैं और दुनिया भर को योग का प्रशिक्षण दे रहे हैं. अभी उनके परिवार के 36 सदस्य  योगअभ्यास से जुड़े हुए हैं.

वी ननम्मल मानती हैं कि अगर आपके इरादे नेक हैं और हौसला बुलंद है तो कोइ भी बाधा आपको रोक नहीं सकती.

PC- news18tv.in


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...