ख़बरें

सोशल मीडिया पर ज़हरः राजसमंद, उदयपुर में धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवाएं भी बंद

तर्कसंगत

December 14, 2017

SHARES

राजस्थान के उदयपुर और राजसमंद में पुलिस ने धारा 144 लागू कर दी है और इंटरनेट सेवाएं भी रोक दी हैं.

पुलिस ने ऐसा सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही अफ़वाहों को रोकने के लिए किया है.

6 दिसंबर को राजस्थान के राजसमंद में शंभूलाल रैगर ने पश्चिम बंगाल के प्रवासी मज़दूर मोहम्मद अफराजुल की हत्या कर उसका वीडियो वायरल कर दिया था.

शंभूलाल ने मुसलमानों के ख़िलाफ़ भाषण देते हुए 8 और वीडियो रिकॉर्ड किए थे जो एक के बाद एक जारी हो रहे हैं.

शंभूलाल को तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है लेकिन सोशल मीडिया पर कई लोग उनका समर्थन कर रहे हैं.

शंभूलाल को हिंदुत्व का हीरो बताने वाले लोगों ने चौदह दिसंबर को उदयपुर में सभा करने का दावा सोशल मीडिया पर किया था.

प्रशासन ने माहौल ख़राब होने से रोकने के लिए धारा 144 लगा दी है और इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं.

यही नहीं सोशल मीडिया पर शंभूलाल के समर्थन में रैली का आह्वान करने वाले उपदेश राणा के उदयपुर में प्रवेश पर भी रोक लगा दी गई है.

दरअसल इस जघन्य हत्याकांड के बाद कई लोग समाज को धार्मिक आधार पर बांटने के प्रयास कर रहे हैं.

ख़ुद को हिंदुत्व के हीरो बताने वाले ये लोग सोशल मीडिया के ज़रिए ज़हर फैला रहे हैं और माहौल को दूषित करने का प्रयास कर रहे हैं.

इन्हीं लोगों को रोकने के लिए प्रशासन को ये क़दम उठाने पड़े हैं.

लेकिन इंटरनेट सेवाएं बंद करने का उदयपुर और राजसमंद के लोगों के रोज़मर्रा के कामों पर व्यापक असर पड़ेगा.

डिजीटल क्रांति के इस दौर में स्वास्थ्य, शिक्षा, बैंकिंग और यातायात जैसी ज़रूरी सेवाएं में इंटरनेट का अहम योगदान रहता है.

ऐसे में इंटरनेट बंद होने से इन सेवाओं पर व्यापक असर पड़ सकता है.

प्रशासन ने माहौल शांतिपूर्ण बनाने के लिए ये सख़्त क़दम उठाए हैं लेकिन इससे आम जनजीवन पर जो असर होगा उसकी भरपाई कौन करेगा ये सवाल भी उठ रहा है.

वहीं दूसरी ओर राजसमंद पुलिस ने शंभूलाल रैगर की पत्नी सीता रैगर का बैंक खाता सीज कर दिया है.

दरअसल कई लोग सोशल मीडिया के ज़रिए शंभूलाल के परिवार को आर्थिक मदद भेज रहे थे.

पुलिस के मुताबिक सीता रैगर के खाते में कुल 516 लोगों ने तीन लाख से अधिक रुपए मदद के तौर पर भेजे हैं.

पुलिस शंभूलाल के परिवार की आर्थिक मदद करने की बात कर रहे लोगों पर भी कार्रवाई पर विचार कर रही है.

शंभूलाल के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के मामले में अब तक छह लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...