ख़बरें

केरलः छात्रा को गले लगने पर लड़के के स्कूल से निलंबन को हाईकोर्ट ने बरकरार रखा

तर्कसंगत

December 18, 2017

SHARES

केरल में हाई कोर्ट ने छात्रा को गले लगाने पर छात्र को निलंबित करने के स्कूल के फ़ैसले को बरकरार रखा है. ये घटना इसी साल 21 अगस्त की है

तिरुवनंतपुरम के सैंट थॉमस सेंट्रल स्कूल ने स्कूल परिसर में एक छात्रा को गले लगाने के आरोप में एक छात्र को निलंबित कर दिया था,

दरअसल छात्र ने छात्रा को गले लगाने की तस्वीर को इंस्टाग्राम पर अपलोड कर दिया था.

छात्रा ने स्कूल के आर्ट्स फ़ेस्टिवल में कांस्य पदक जीता था. उसे मुबारकबाद देते हुए छात्र ने गले लगा लिया था और तस्वीर खिंचवा ली थी.

स्कूल प्रशासन ने दोनों के सितंबर तक स्कूल आने पर रोक लगा दी थी.

दोनों को गले लगते हुए देखने वाले शिक्षकों को कहना था कि वो सार्वजनिक तौर पर प्यार के इस प्रदर्शन से चौंक गए थे.

गले लगाने को अश्लील मानते हुए स्कूल प्रशासन ने छात्र को सोशल मीडिया पर तस्वीर पोस्ट करने को भी स्कूल के नियमों का उल्लंघन माना था.

बाद में छात्र को टीसी थमा दी गई थी. अभिभावकों ने निर्णय को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी.

अभिभावकों ने बाल अधिकार आयोग में भी याचिका दायर की थी जिसने चार अक्तूबर को स्कूल को छात्र को कक्षाओं में शामिल होने की अनुमति देने के लिए कहा था.

साथ ही छात्रा और छात्र दोनों ने स्कूल प्रशासन से लिखित में माफ़ी भी मांग ली थी.

अदालत में छात्र ने तर्क दिया था कि उसका इंस्टाग्राम अकाउंट प्राइवेट है और उसने स्कूल प्रशासन को इसे देखने की अनुमति नहीं दी थी.

हालांकि अपने फ़ैसले में जज ने कहा कि इंस्टाग्राम पर कई तस्वीरें पोस्ट की गईं थीं और यदि ऐसा पब्लिसिटी हासिल करने के लिए किया गया है तो इससे स्कूल की छवि धूमिल होती है.

जज ने अपने फ़ैसले में कहा कि स्कूल के पास अपनी छवि और स्तर को बरकरार रखने का अधिकार है.

अदालत ने ये भी कहा है कि वो स्कूल के फ़ैसले में दख़ल नहीं दे सकते हैं. अदालत ने ये भी कहा कि बाल अधिकारों के दायरे में स्कूल की अनुशासनात्मक कार्रवाई नहीं आती है.

Source: The News Minute

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...