ख़बरें

उन्नाव एड्स मामलाः असुरक्षित सेक्स और प्रवासी मज़दूरों की बड़ी तादाद भी है वजह

तर्कसंगत

February 17, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के उन्नाव से जब एक झोलाछाप की डॉक्टर की लापरवाही से एड्स फैलने की ख़बर आई तो इसे दुनिया भर की मीडिया ने हाथोंहाथ लिया.

दरअसल उन्नाव के एक इलाक़े में कुछ महीनों के अंतराल में पचास से अधिक एचआईवी पॉज़ीटिव के मामले सामने आए थे.

जिसके बाद जांच में स्थानीय लोगों न एक झोलाछाप डॉक्टर का नाम लिया था. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया था कि डॉक्टर ने इस्तेमाल की हुई सीरिंज का इस्तेमाल किया जिसके वजह से एचआईवी का संक्रमण फैला. हालांकि किसी खुली सूई पर एचआईवी वायरस अधिकतम तीन सेकंड ही जीवित रह सकता है.

वहीं पचास से अधिक लोगों के एचआईवी पॉज़ीटिव पाए जाने की रिपोर्टों के बाद नेशनल एड्स कंट्रोल आर्गेनाइज़ेशन (नाको) के जांच दल ने उन्नाव के प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया.

जांचदल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उन्नाव में इतनी बड़ी संख्या में एचआईवी पॉज़ीटिव मामले सामने आने की बड़ी वजह असुरक्षित सेक्स संबंध और बड़ी प्रवासी आबादी है.

नाको की टीम ने सात फ़रवरी को क्षेत्र का दौरा किया था.

हालांकि रिपोर्ट में दूषित सीरिंय से एचआईवी वायरस फैलने को नकारा नहीं गया है. बल्कि रिपोर्ट में कहा गया है कि यहां एचआईवी संक्रमण होने की और कारण भी हो सकते हैं.

नाको के महानिदेशक संजीव कुमार ने कहा, “वायरस खुले वातावरण में एक मिनट से अधिक जीवित नहीं रह सकता है. ऐसे में दूषित सीरिंज से हो सकता है संक्रमण हुआ हो लेकिन अचानक एचआईवी के कई ममले सामने आने की ये एकमात्र वजह नहीं हो सकती.”

बीते साल जुलाई से अब तक उन्नाव जिले में 54 लोगों में एचआईवी संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है. वहीं पांच लोगों को एचआईवी रिएक्टिव भी पाया गया है. जिसका मतलब है कि उन्हें एचआईवी संक्रमण हो सकता है.

कुमार ने कहा कि एचआईवी संक्रमण के बारे में स्वास्थ्य विभाग के दो कैंपों में हुईं जांचों के बाद पता चला था.

उनका कहना है कि पहले कैंप में सामने आए मामलों की वजह असुरक्षित सेक्स और सेक्स के दौरान असुरक्षित व्यवहार है जबकि दूसरे मामले में झोलाझाप का इंजेक्शन भी वजह हो सकता है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को अपनी अंतिम रिपोर्ट भेजने से पहले नाको एचआईवी और एड्स के विशेषज्ञों से सलाह ले रही है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में इस समय करीब 21 लाख लोग एचआईवी प्रभावित हो सकते हैं.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...