ख़बरें

हैदराबादः नाबालिग बच्चे चला रहे थे गाड़ी, पुलिस ने अभिभावकों को जेल भेजा

तर्कसंगत

February 23, 2018

SHARES

हैदराबाद में ट्रैफ़िक पुलिस ने उन चार पिताओं को एक दिन के लिए जेल भेज दिया जिन्होंने अपने नाबालिग बच्चों को गाड़ी चलाने दी.

ट्रैफ़िक पुलिस ने ये क़दम नाबालिगों के दुर्घटनाओं में लिप्त होने के बढ़ते मामलों के बाद उठाया है.

हैदराबाद ट्रैफ़िक पुलिस ने अदालत से ऐसे बच्चों के परिजनों को जेल भेजने की अनुमति मांगी थी.

पुलिस ने अदालत से कहा है कि यदि ज़रूरी हो तो नाबालिग बच्चों को भी किशोर सुधार गृह भेजा जाए.

अदालत ने तय किया है कि बार-बार ट्रैफ़िक नियमों का उल्लंघन करने वाले किशोरों को किशोर सुधार गृह भेजा जाएगा.

हैदराबाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए ट्रैफ़िक नियमों का उल्लंघन कर रहे चार नाबालिग बच्चों के पिताओं को एक दिन के लिए जेल भेजा जबकि बच्चों को आर्थिक दंड जमा करने के बाद घर भेज दिया गया.

ये चारों नाबालिग किसी दुर्घटना में शामिल नहीं थे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने तेलंगना टुडे से कहा है कि दुर्घटना करने वाले नाबालिग किशोरों को और सख़्त सज़ा दी जाएगी.

रिपोर्टों के मुताबिक हैदराबाद में पुलिस रोज़ाना औसतन 25 नाबालिग ड्राइवरों का चालान करती है.  पिछले साल हुए सड़क हादसों में 130 नाबालिग शामिल थे.

पुलिस नियमों की अनदेखी कर शहर की सड़कों पर वाहन दौड़ा रहे नाबालिग ड्राइवरों की करतूतों से परेशान है.

डीसीपी ट्रैफ़िक एवी रंगनाथन ने डेकन क्रानिकल से कहा,  हम 18 वर्ष से कम आयु के ड्राइवरों और उनके अभिभावकों पर चार्जशीट दाखिल कर रहे हैं. हाल के दिनों में अदालत भी अभिभावकों को जेल भेज रही है. शहर में नाबालिग ड्राइवरों का तांडव बढ़ गया है. हम अभिभावकों को सज़ा दिलवा रहे हैं क्योंकि बच्चों का गाड़ी चलाना उन्हीं की गलती है.

साल 2016 में मोटर व्हिकल एक्ट में संशोधन विधेयक पारित किया गया था जिसके तहत ड्राइविंग करते हुए पकड़े गए नाबालिगों के परिजनों को तीन साल तक की सज़ा और पच्चीस हज़ार रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान है.

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इसे सड़क सुरक्षा की दिशा में सबसे बड़ा क़दम बताया था.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...