ख़बरें

मुज़फ़्फ़रनगर पुलिस ने मुसलमानों को पत्र लिख कर की शांति की अपील

Poonam

February 27, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फरनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव ने ज़िले के सभी मदरसों और मस्जिदों को पत्र लिखकर होली पर शांति-व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है.

अनंद देव ने अपने पत्र में इस्लाम के दूत पैगंबर मोहम्मद के किरदार का उल्लेख कर मुसलमानों से उनके नक़्शे क़दम पर चलने की अपील की है.

अपने पत्र में अनंत देव ने लिखा, “आप लोग उस उम्मत के सदस्य हैं जिसके पैगंबर का किरदार देख पत्थर दिल भी पिघल जाया करते थे. आग से आग बुझाने की कोशिश न करें. आग बुझाने के लिए पानी की ज़रूरत होती है. अगर किसी बच्चे या बड़े से ग़लती हो जाए तो सब्र और धीरज से काम लेकर अमन क़ायम रखें.”

तर्कसंगत से बात करते हुए पुलिस अधीक्षक अनंत देव ने कहा कि उन्होंने एक हज़ार पत्र लिखकर मुसलमानों को भेजे हैं ताकि लोग ग़ुस्से में कोई क़दम उठाने से पहले एक बार पैगंबर मोहम्मद के बताए रास्ते के बारे में सोच लें.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मुज़फ़्फरनगर ज़िला सांप्रदायिक रूप से बेहद संवेदनशील है. साल 2013 में यहां एक बड़ा दंगा हुआ था जिसमें साठ से अधिक लोग मारे गए थे और लाखों लोग बेघर हो गए थे.

इस दंगे का असर उत्तर प्रदेश की चुनावी राजनीति पर भी रहा था.

अनंत देव कहते हैं कि ज़िले में सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखना और शांति-व्यवस्था क़ायम करना उनकी पहली ज़िम्मेदारी है और इसी ज़िम्मेदारी को निभाते हुए उन्होंने ये अपील की है.

होली पर लोग एक-दूसरे पर रंग डालते हैं और हुड़दंग भी करते हैं. ये त्यौहार भारतीय संस्कृति का अहम हिस्सा है.

लेकिन कई बार होली का रंग सांप्रदायिक हिंसा की वजह भी बन जाता है. मुसलमान समुदाय में लोग होली का रंग अपने ऊपर नहीं डालते हैं. ऐसे में नादानी से डाला गया रंग भी बहस या झड़प का कारण बन जाता है.

अपने पत्र में अनंत देव ने पैगंबर मोहम्मद के जीवन की उस चर्चित कहानी का भी उल्लेख किया है जिसमें उन्होंने अपने ऊपर रोज़ाना गंदगी डालने वाली बूढ़ी औरत को माफ़ कर दिया था.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...