ख़बरें

हुक्के के कोयले ने धधकाई थी मुंबई की आग, गई थीं 14 जानें

तर्कसंगत

March 3, 2018

SHARES

मुंबई पुलिस के मुताबिक बीते साल मुंबई के कमला मिल इलाक़े में एक रेस्त्रां में लगी आग की वजह से हुक्का के लिए रखे गए कोयला का दहकना था.

अपनी चार्जशीट में मुंबई पुलिस ने कहा है कि हुक्कों के लिए रखे गए जलते हुए कोयले के पास चल रहे पंखे की वजह से आग फैली थी.

29 दिसंबर को मोजो बिस्त्रो नाम के रेस्त्रां में लगी आग में तेरह मेहमानों और एक कर्मचारी की मौत हो गई थी.

आग बगल के वन अबव नाम के रेस्त्रां में भी फैल गई थी.

पुलिस ने अपनी जांच में पाया है कि आग एक कर्मचारी की ग़लती की वजह से लगी थी.

हालांकि दोनों रेस्त्राओं में रखे ज्वलनशील पदार्थों ने हालात और बदतर कर दिए थे.

यही नहीं वन अबव रेस्त्रां में तो ग़ैरक़ानूनी निर्माण किया गया था और आग लगने की स्थिति में इस्तेमाल किया जाना वाले रास्ते में अवरोधक थे.

पुलिस के मुताबिक मोजो बिस्त्रो की छत पर ग्राहकों को हुक्का पेश किया जाता था. ये गतिविधि अवैध रूप से चल रही थी और इसके लिए अलग से कर्मचारी रखे गए थे.

पुलिस ने बुधवार को इस मामले में पेश की गई अपनी चार्जशीट में कुल बारह लोगों को अभियुक्त बनाया है.

इसमें वन अबव के मालिक और प्रबंधक, मोजो बिस्त्रो के मालिक और प्रबंधक और कमपा मिल कंपाउंड के मालिक शामिल हैं.

अपनी जांच में पुलिस ने पाया कि अगस्त 2017 में बीएमसी ने कार्रवाई करते हुए खुली छत पर बनाए गए अस्थाई शेड को ध्वस्त कर दिया था लेकिन दोनों ही रेस्त्राओं के मालिकों ने इसे एक दिन बाद ही फिर से बनवा लिया था.

पुलिस ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि इस शेड से ही आग तेज़ी से फैली थी.

आग लगने के बाद अधिकतर ग्राहकों ने पुलिस को बताया था कि उन्हें रेस्त्रां के प्रबंधन की ओर से किसी तरह की मदद नहीं मिली.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...