ख़बरें

चुनाव नतीजों के बाद त्रिपुरा में झड़पें, लेनिन की मूर्ति गिराई

तर्कसंगत

March 6, 2018

SHARES

त्रिपुरा में हुए विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने ऐतिहासिक जीत हासिल की है.

लेकिन भाजपा की जीत के बाद उत्साहित कार्यकर्ता ऐसी हरकतें कर रहे हैं जो पार्टी की नीतियों पर गंभीर सवाल खड़े करती हैं.

त्रिपुरा के दक्षिणी हिस्से में स्थित बेलोनिया क़स्बे के केंद्र में स्थित कॉलेज चौक पर बीते पांच साल से वामपंथी आईकन लेनिन की मूर्ति लगी थी.

लेकिन भाजपा की जीत के 48 घंटों के भीतर ही जीत का जश्न मना रहे उत्साहित कार्यकर्ताओं ने भारत माता की जय के नारों के बीच लेनिन की ये मूर्ती जेसीबी मशीन की मदद से गिरा दी.

 

25 सालों तक राज्य की सत्ता पर काबिज रही सीपीआई (मार्क्सवादी) पार्टी ने इस घटना को वामपंथ के प्रति बढ़ती नफ़रत बताया है वहीं भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि वामपंथी शासन में शोषित रहे लोगों ने अपने ग़ुस्से का इज़हार किया है.

सीपीआई (एम) के एक स्थानीय नेता ने समाचार पत्र इंडियन एक्सप्रेस से कहा है कि लेनिन की मूर्ति को गिराए जाने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने सर धड़ से अलग करके उसे लातें भी मारीं.

वहीं पुलिस ने जेसीबी के ड्राइवर आशीष पाल को गिरफ़्तार कर लिया जिसे बाद में ज़मानत पर रिहा कर दिया गया.

पुलिस के मुताबिक मूर्ति जहां गिरी थी वहीं है और उसे नगरपालिका को सौंप दिया जाएगा.

ये मूर्ति स्थानीय कलाकार कृष्णा देबनाथ ने तीन लाख रुपए के ख़र्च पर स्थापित की थी.

2013 विधानसभा चुनावों में वामपंथी दल की जीत के बाद इस मूर्ति को स्थापित किया गया था.

त्रिपुरा के चुनावी नतीजों के बाद भाजपा और  सीपीआई (एम) कार्यकर्ताओं के बीच झड़पों की रिपोर्टें भी आ रही हैं.

दोनों ही दल एक दूसरे पर हमले करने के आरोप लगा रहे हैं.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...