ख़बरें

अपनी ज़रूरत से ज़्यादा सौर ऊर्जा पैदा कर रहा है दीव

तर्कसंगत

March 9, 2018

SHARES

भारत का केंद्र शासित प्रदेश दीव अपनी ज़रूरत से ज़्यादा सौर ऊर्जा पैदा कर रहा है.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक दीव देश का पहला ऐसा केंद्र शासित प्रदेश बन गया है जिसके पास अपनी ज़रूरत से ज़्यादा नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत हैं.

बीते तीन सालों में दीव ने सौर्य ऊर्जा क्षेत्र में तेज़ी से प्रगति की है. 42 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र वाले इस केंद्र शासित प्रदेश में 50 एकड़ से अधिक पर सौर ऊर्जा फार्म लगाए गए हैं.

दीव इस समय रोज़ाना 13 मेगावाट बिजली सौर ऊर्जा से पैदा की जा रही है.  यहां छतों पर लगाए गए सोलर पैनलों से रोज़ाना तीन मेगावाट बिजली पैदा की जा रही है जबकि अन्य सोलर पैनलों से दस मेगावाट बिजली पैदा हो रही है.

तीन साल पहले दीव  के लोग गुजरात के पावरग्रिड से मिलने वाली बिजली का इस्तेमाल करते थे जिससे बड़ी मात्रा में बिजली लाइन लॉस में चली जाती थी.

लेकिन स्थानीय ऊर्जा कंपनी के सौर ऊर्जा पैदा करने के बाद से लाइन लॉस बेहद कम हो गया है जिससे बिजली की बचत भी हो रही है.

दीव की जनसंख्या सिर्फ़ 56 हज़ार है और यहां के लोग बिजली और पानी की आपूर्ति के लिए पड़ोसी गुजरात पर निर्भर थे.  इससे उबरने के लिए दीव प्रशासन ने सोलर पैनल लगाने का फैसला किया था.

दीव में बिजली की अधिकतम खपत रोज़ाना सात मेगावाट तक रहती है. ऐसे में इस समय दीव में खपत से ज़्यादा बिजली उत्पादन हो रहा है.

यही नहीं सौर ऊर्जा लोगों की जेब पर भी हल्की पड़ रही है. आम लोगों के बिजली के बिलों में 12 प्रतिशत तक की कटौती हुई है.

सौर ऊर्जा से बिजली पैदा होने के बाद बिजली बोर्ड ने दरें कम कर दी हैं जिसका सीधा फ़ायदा यहां के लोगों को मिल रहा है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...