ख़बरें

यूपीः ठेले पर पत्नी के साथ व्यवस्था की लाश को ढोता शख़्स

Poonam

March 13, 2018

SHARES

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में बदहाल सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की तस्वीर सोमवार को फिर साफ़ हुई.

एक व्यक्ति ने अपनी बीमार पत्नी को अस्पताल ले जाने के लिए फ्री एंबुलेंस सेवा 108 पर फ़ोन किया लेकिन काफ़ी देर इंतेज़ार करने के बाद भी एंबुलेंस नहीं आई.

पत्नी की हालत बिगड़ती देख व्यक्ति उसे एक ठेले पर लिटाकर ही पांच किलोमीटर दूर ज़िला अस्पताल लेकर पहुंचा.

अपनी पत्नी को ठेले पर लिटाकर अस्पताल ले जाने वाले कन्हैया का आरोप है कि अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मियों ने समय पर इलाज नहीं किया जिससे उसकी मौत हो गई.

मज़दूर कन्हैया को अपनी बीमार पत्नी को अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली. वो ठेले पर ही अपनी बीमार पत्नी को अस्पताल ले गए जहां उसकी मौत हो गई. जिला अस्पताल ने शव ले जाने के लिए भी एंबुलेंस मुहैया नहीं कराई. कन्हैया अपनी पत्नी की लाश को ठेले पर ही डालकर ले गए. लाश के बगल में बैठी उनकी मां सुबकती रही. इंसानियत पथराई आंखों से तकती रही. ये सब यूपी के मैनपुरी में हुआ.

Posted by तर्कसंगत – Tarksangat on Monday, 12 March 2018

 

हालांकि ज़िले के सीएमओ डॉ. अरविंद कुमार का कहना है कि महिला जब अस्पताल पहुंची थी तब  उसकी मौत हो चुकी थी.

कन्हैया ने अपनी पत्नी सोनी (३० वर्ष) के शव को घर ले जाने के लिए एंबुलेंस मांगी लेकिन एंबुलेंस नहीं मिली.

वह अपनी पत्नी की लाश को ठेले पर डालकर ही गांव की ओर चल दिया. घटना के वीडियो स्थानीय पत्रकारों ने बनाए हैं जिनके सामने आने के बाद स्वास्थ्य सेवाओं पर गंभीर सवाल खड़े हुए हैं.

उत्तर प्रदेश में सरकारी अस्पतालों की हालत बेहद खस्ता है. गोरखपुर के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से दर्जनों बच्चों की मौत हुई थी. ऐसा ही मामला फ़रुर्खाबाद के ज़िला अस्पताल में भी सामने आया था.

सरकार प्रदेशभर में फ्री एंबुलेंस सेवाएं देने का दावा भी करती है लेकिन आमतौर पर एंबुलेंस के समय पर न पहुंचने की ख़बरें आती रहती हैं.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...