ख़बरें

पश्चिम बंगालः हिंसा में बेटे की मौत के बाद इमाम ने दिया मार्मिक भाषण

तर्कसंगत

March 30, 2018

SHARES

पश्चिम बंगाल में रामनवमी के बाद से हुई हिंसा में मरने वालों की तादाद पांच हो गई है.

आसनसोल के 16 वर्षीय छात्र सिब्तुल्ला रशादी भी इननमें से एक हैं.

इसी साल दसवीं की परिक्षाएं देने वाले सिब्तुल्ला रशादी के पिता आसनसोल की मस्जिद के इमाम हैं.

मौलाना इम्दादुल रशादी को जब पता चला कि सांप्रदायिक हिंसा में उनके बेटे की मौत हो गई है तो उन्होंने स्थानीय मस्जिद में लोगों को संबोधित किया.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक मौलाना रशादी ने लोगों से कहा कि अगर उनके बेटे की हत्या की प्रतिक्रिया में कोई हिंसा या आगजनी हुई तो वो मस्जिद और शहर को छोड़कर चले जाएंगे.

रिपोर्टों के मुताबिक सिब्तुल्ला रशादी आसनसोल के रेल परी इलाक़े में मंगलवार को हुई हिंसा के बाद से लापता थे. बाद में उनका शव बरामद हुआ.

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि भीड़ ने सिब्तुल्ला को अग़वा कर लिया था. आशंका जाहिर की जा रही है कि सिब्तुल्ला की हत्या पीट-पीट कर की गई.

48 वर्षीय इमाम रशादी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “जब वो घर से बाहर निकला था तो माहौल बहुत ख़राब था. कुछ लोगों की भीड़ ने उसे उठा लिया. मेरे बड़े बेटे ने पुलिस को सूचना भी दी लेकिन उसे थाने में इंतेज़ार करवाया गया. बाद में हमें बताया गया कि एक शव मिला है.”

सिब्तुल्लाह के अंतिम संस्कार के बाद हज़ारों लोगों की भीड़ ईदगाह के मैदान में जमा हो गई. भीड़ को संबोधित करते हुए अपना बेटा गंवाने वाले इमाम रशादी ने कहा, “मैं शांति चाहता हूं. मेरा बेटा छीन लिया गया है. मैं नहीं चाहता कि किसी और परिवार को इस त्रास्दी से गुज़रना पड़े. मैं नहीं चाहता कि किसी और का घर जले. मैं आसनसोल छोड़ जाउंगा अगर किसी ने जवाब में एक उंगली भी उठाई. अगर आप मुझसे प्यार करते हो तो जवाबी हिंसा नहीं करोगे.”

रशादी कहते हैं, “मैं पिछले तीस सालों से इमाम हूं. ये ज़रूरी है कि मैं लोगों को सही संदेश दूं. शांति का संदेश. मुझे अपनी व्यक्तिगत हानि से ऊपर उठकर सोचना होगा. आसनसोल के लोग ऐसे नहीं है. इस हिंसा के पीछे ज़रूर एक साज़िश है.”

मौलाना रशादी के भाषण ने उत्तेजित भीड़ को शांत कर दिया. सुनने वाले रोने लगे. हिंसा की आग और धधकने से रुक गई.

हालांकि पश्चि बंगाल के अलग-अलग हिस्सों में तनाव जारी है और ममता बनर्जी सरकार पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं.

स्रोतः इंडियन एक्सप्रेस


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...