ख़बरें

बेटे डॉक्टर, इंजीनियर, अफ़सर और पिता चोर

तर्कसंगत

April 12, 2018

SHARES

मुंबई पुलिस ने टक-टक गैंग से जुड़े रविचंद्रन मुदालियार को पकड़ तो लिया लेकिन उनका मुंह खुलवाना मुश्किल हो रहा था.

रविचंद्रन मुदलियार ढाई लाख की लूट के मुख्य अभियुक्त हैं. उन पर चोरी के कई और आरोप भी हैं.

पुलिस जब भी उनसे पूछताछ करती वो तमिल भाषा में ही जवाब देते. चार दिन की हिरासत के बावजूद पुलिस के लिए उनका मुंह खुलवाना मुश्किल हो रहा था.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक फिर पुलिस ने ऐसी चाल चली कि मुदलियार बेबस हो गए और सब उगल दिया.

दरअसल पुलिस ने कहा था कि यदि उन्होंने मुंह नहीं खोला तो उनके बेटों को तलब कर लिया जाएगा.

पुलिस जांच में पता चला कि मुदलियार का एक बेटा एमबीबीएस डॉक्टर है और मुंबई के ही एक प्रतिष्ठित अस्पताल से जुड़ा है. उनका एक और बेटा इंजीनियर है जबकि तीसरा बेटा मर्चेंट नेवी में अधिकारी है.

मुदलियार की टक-टक गैंग लोगों की गाड़ियों पर दस्तक देकर शीशा खुलवा लेती है और गाड़ी से तेल टपकने या टायर में पंक्चर होने की बात कहकर ड्राइवर का ध्यान भटका लेती है.  इसी दौरान गैंग के सदस्य गाड़ी में रखे कीमती मोबाइल फ़ोन या अन्य सामान लेकर फ़रार हो जाते हैं.

पुलिस जांच में पता चला है कि मुदलियार ऐसी ही एक टक-टक गैंग चलाते है. पुलिस ने जब मुदलियार से कहा कि जांच में सहयोग न करने पर उनके बेटों को तलब कर लिया जाएगा तो वो टूट गए और सभी जानकारियां पुलिस को दे दीं.

पुलिस ने उनसे डेढ़ लाख रुपए और जेवर बरामद किए हैं. मुदलियार डेढ़ करोड़ रुपए की लूट के एक मामले में भी वांछित हैं.

पुलिस जांच में पता चला है कि वो धारावी में एक एटीएम लूट में भी वांछित हैं.  फिलहाल मुदलियार को आर्थर रोड में रखा गया है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...