ख़बरें

सूरत रेप-हत्याः बच्ची के शरीर पर 86 जख़्म, पुलिस ने माना रेप हुआ

तर्कसंगत

April 16, 2018

SHARES

गुजरात के सूरत के पंडेसरा इलाक़े में एक अज्ञात बच्ची का शव मिलने के एक सप्ताह बाद रविवार को पुलिस ने कहा है कि बच्ची को बंधक बनाकर रखा गया और हत्या किए जाने से पहले उसका बलात्कार किया गया.

पुलिस के मुताबिक बच्ची को यातनाएं भी दी गईं थीं.

सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा ने एक प्रेस वार्ता में बताया कि बच्ची के शरीर पर 86 ज़ख़्म हैं.

पुलिस के मुताबिक बच्ची के निजी अंगों पर भी चोट के निशान है. उसकी गला दबाकर हत्या की गई थी.

माना जा रहा है कि बच्ची 11 साल की है लेकिन पुलिस अभी तक उसकी पहचान नहीं कर सकी है.

सूरत पुलिस ने मामले की जांच अब क्राइम ब्रांच को सौंप दी है.

पुलिस कमिश्नर ने कहा, ‘अभी तक हम बच्ची की पहचान नहीं कर पाए हैं. उसके बारे में सूचना देने वाले को बीस हज़ार रुपए का ईनाम दिया जाएगा.’

बच्ची का शव 6 अप्रैल को एक स्थानीय क्रिकेट ग्राउंड के पास झाड़ियों में मिला था.

पुलिस ने बच्ची को अग़वा करने, बलात्कार करने और फिर हत्या करने के आरोपों में अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की है.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक बच्ची की हत्या लाश मिलने से छह से चौबीस घंटे पहले की गई होगी.

इस बच्ची की पहचान करने के लिए पुलिस अब तक आठ हज़ार से अधिक लापता बच्चियों के रिकार्ड देख चुकी है.

पुलिस का मानना है कि हो सकता बच्ची को सूरत के बाहर से लाया गया हो.

ऐसा भी संभव है कि ये बच्ची ओडीशा या पश्चिम बंगाल से रही हो.

पहचान पुख़्ता करने के लिए पुलिस ने बच्ची का डीएनए सुरक्षित करा लिया है.

अपराधियों तक पहुंचने के लिए बच्ची की पहचान पुख़्ता होना अहम है और फिलहाल पुलिस की जांच इसी पर केंद्रित है.

हाल के दिनों में कठुआ में आठ साल की बच्ची को अग़वा कर गैंगरेप किए जाने और फिर हत्या कर देने के मामले के सामने आने के बाद देश भर में बेटियों की सुरक्षा को लेकर प्रदर्शन हुए हैं.

लोग केंद्र और राज्य सरकारों से सवाल कर रहे हैं. इसी बीच सूरत के इस मामले ने इन सवालों को फिर से ताज़ा कर दिया है.


Contributors

Edited by :

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...