ख़बरें

उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर में गौ हत्या के अफ़वाह में हुए दंगे में एक पुलिस अधिकारी और एक युवक की जान गयी

तर्कसंगत

December 4, 2018

SHARES

3 दिसंबर को, उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर जिले के स्याना कस्बे में कथित रूप से गौ हत्या का मामला प्रकाश में आया है। इस घटना में उग्र हुई भीड़ और पुलिस के बीच हुई झड़प में एक पुलिस अधिकारी और एक व्यक्ति की मौत हो गयी है| रिपोर्ट के अनुसार, इस क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण है, जिसके कारण कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात किये गए हैं।

 

 

झड़प में पुलिस अधिकारी की मौत

तर्कसंगत ने यूपी पुलिस आईजी, मेरठ ज़ोन, राम सिंह से बात की, जिन्होंने पुलिस अधिकारी के हत्या की पुष्टि की है। उन्होंने कहा, “इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की मृत्यु हो गई और एक अन्य घायल पुलिसकर्मी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।”

जिला मजिस्ट्रेट ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया यह घटना तब शुरू हुई जब क्षेत्र में एक गाय का शव पाया गया| उसके बाद कुछ लोगों ने क्षेत्र में विरोध करना शुरू कर दिया। क्विंट की रिपोर्ट के अनुसार, कथित रूप से भीड़ अवैध बूचड़खानों के विरोध में भी प्रदर्शन कर रही थी।

जिला मजिस्ट्रेट ने आगे बताया कि गाय के शव के साथ प्रदर्शनकारियों ने क्षेत्र की एक सड़क को अवरुद्ध कर दिया था। इसके बाद, पुलिस को घटना के बारे में सूचित किया गया। जब पुलिस सड़क को खाली करवाने के लिए मौके पर पहुंची, तो कुछ अज्ञात लोगों ने पुलिस पर पत्थरबाज़ी शुरू कर दी।

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, पथराव के जवाब में पुलिस ने भीड़ को तीतर बितर करने के लिए फायरिंग शुरू की। हालांकि, भीड़ शांत नहीं हुई बल्कि और उग्र हो कर चिंगरावटी पुलिस थाने में आग लगा दी, साथ ही पुलिस की लगभग 10 गाड़ियों में भी आगजनी की गयी।

सिविल लाइंस (अलीगढ़) के एक पुलिस अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि “पुलिस बल और अज्ञात उपद्रवियों के बीच हुए मुठभेड़ में मारे गए पुलिस अधिकारी की पहचान इंस्पेक्टर सुबोध वर्मा के रूप में की गई है, जो हमले में घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल लाने पर मृत घोषित कर दिया गया था।”

 

 

कथित तौर पर इसके पीछे राइट विंग का हाथ बताया गया है

जिला मजिस्ट्रेट और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने क्षेत्र की स्थिति की जांच के लिए जगह का दौरा किया है। जैसा की क्विंट ने बताया है कि ऐसी खबरें आ रही हैं कि वाहनों को नष्ट करने और पुलिस अधिकारियों पर हमले के पीछे  हिंदू युवा वाहिनी और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का हाथ है।

क्विंट के मुताबिक, रिपोर्टें है कि सुमित नाम के युवक की भी संघर्ष के दौरान गोली लग जाने से मौत हो गयी है।

क्विंट के रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने बताया है की क्षेत्र की ख़राब स्थिति और घटना की गंभीरता को देखते हुए दूसरे पुलिस स्टेशन से भी पुलिसकर्मियों को ट्रांसफर कर के यहाँ क्षेत्र में लाया गया है ताकि स्थिति पर नियंत्रण राखी जा सके। रिपोर्ट है कि एक विशेष जांच दल (एसआईटी) इस मामले की जांच करेगा।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...