ख़बरें

हिन्दू युवा वाहिनी ने योगी का अपमान करने पर सिद्धू के सर पर 1 करोड़ का इनाम रखा

तर्कसंगत

Image Credits: Times Of India

December 7, 2018

SHARES

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ख़िलाफ़ अभद्र और अपमानजनक टिप्पणी देने के लिए मंगलवार को, हिंदू युवा वाहिनी (एचवाईवी) ने  पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी और पंजाब कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के सिर पर 1 करोड़ रुपये का इनाम घोषित किया है। सिद्धू राजस्थान में एक रैली में भाषण दे रहे थे। आगरा इकाई के हिंदू युवा वाहिनी के अध्यक्ष तरुण सिंह ने अगले आगरा दौरे पर सिद्धू को ‘जान से मारने’ की धमकी दी है।

 

कार्यकर्ताओं के निशाने पर नवजोत सिंह सिद्धू

तरुण सिंह ने नवजोत सिद्धू को पाकिस्तान के साथ उनके संबंधों के कारण से निशाने पर लिया है, और उन पर पाकिस्तान की प्रशंसा करने का आरोप लगाया गया है साथ ही उनपर अपने देश के खिलाफ अयोग्य बयान देने का भी आरोप है। उन्होंने कहा, “या तो सिद्धू को पाकिस्तान जाना होगा या हम उन्हें इन परिस्थितियों में भारत में रहने नहीं देंगे।”

द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में एचवाईवी और विश्व हिंदू महासंघ कार्यकर्ताओं ने सिद्धू की छवि खराब करने के लिए उनके खिलाफ नारे लगाए।

नवजोत का बयान रामगंज मंडी में रविवार को एक रैली को संबोधित करते हुए आया, जिससे कि कार्यकर्ता काफ़ी गुस्से में थे, भाषण में उन्होनें कहा कि “भाजपा देश के लोगों के प्रति समर्पित नहीं थी|” यहां तक कि चौकीदार (प्रधान मंत्री का जिक्र करते हुए)  का कुत्ता भी वफ़ादार नहीं है। वह भी एक चोर है और योगी सबसे बड़े ‘भोगी’ हैं।

 

रैली में नवजोत ने क्या कहा

रविवार को रैली में, नवजोत ने सत्तारूढ़ सरकार पर कई वक्तव्य द्वारा हमला किया। योगी आदित्यनाथ के खिलाफ बयान देने के अलावा, उन्होंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया, उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर अंबानी के गोद पर बैठने का आरोप लगाया। “कांग्रेस ने हमें चार गांधी, राजीव गांधी, इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी दिए। लेकिन बीजेपी ने हमें तीन मोदी, नीरव मोदी, ललित मोदी और अंबानी के गोद में बैठा नरेंद्र मोदी दिया।”

नागालैंड पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने आगे आरोप लगाया कि भाजपा के समय में लोकतंत्र गुंडों द्वारा संभाला जा रहा है| उन्होनें नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए “फर्जी वादे” और देश के बढ़ते भ्रष्टाचार पर सवाल उठाए।

 

तर्कसंगत का तर्क 

भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता इस देश में एक मजाक बन गई है। हर दूसरे दिन, कोई खुले तौर पर किसी को जान से मारने की धमकी देता है और प्रशासन और अधिकारी बैठे बैठे देखते रहते हैं। पिछले साल बीजेपी के सदस्य सूरज पाल अमू ने फिल्म ‘पद्मावत’ की वजह से दीपिका पादुकोण के सिर पर इनाम की घोषणा की थी। अब, क्योंकि सिद्धू पाकिस्तान गए थे और योगी आदित्यनाथ के खिलाफ बात की, तो एक समूह ने उनका सर काट कर लाने वाले के लिए इनाम की घोषणा कर दी। 2019 में, हम एक आधुनिक देश में रह रहे हैं, जहाँ हम जापान के जैसे बुलेट ट्रेन में घूमने के इच्छुक हैं, अपमानजनक व्यक्तव्य के लिए सर कलम करने की मांग करना पुरातन और कठोर है। हिंसा और घृणा को उत्तेजित करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

साथ ही तर्कसंगत इस चीज़ पर भी ज़ोर देता है कि चुनाव के दौरान रैलियों में भाषण देते समय नेतागण अपनी भावनाओं पर काबू रखें, जीतना लक्ष्य हो सकता है मगर किसी के व्यक्तित्व पर प्रहार किये बिना जीतना ज़्यादा अच्छा है, देर से ही सही इससे जनता में आपके प्रति सम्मान बढ़ता है|

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...