मेरी कहानी

मेरी कहानी: किसी की जान के बदले मुझे 30 मिनट में पिज़्ज़ा नहीं चाहिए, आप भी ऐसा न करें

तर्कसंगत

Image Credits: Khaleej Times

December 11, 2018

SHARES

ग्राहकों के रूप में, हम अक्सर डिलीवरी वालों को ज़्यादा महत्व नहीं देते हैं। हमारे लिए, वे नामहीन, बेकार लोग हैं जो केवल हमारे लिए खाना पहुँचाने का काम करते हैं। क्या आपने कभी उनके काम की स्थिति पर गौर किया है ? अगर हम शिकायत करते हैं कि हमारा भोजन देर से दिया गया है तो उन्हें दंडित किया जाता है। उन्हें घंटों ट्रैफिक के बीच से गुज़ारना पड़ता है, अक्सर वे अपने और दूसरों के जीवन को जोखिम में डालते हैं| उनके पास शायद ही उन्हें कंपनी के तरफ से बिमा मिला हो और न ही वे बहुत सारा पैसा कमाते हैं। क्या हमें उनके जीवन को महत्त्व नहीं देना चाहिए?

कोलकाता ट्रैफिक पुलिस की फेसबुक पेज पर साझा की गई एक घटना उन्ही सब बातों पर ज़ोर देती है।

 

“सर सॉरी मुझे यह आर्डर पहुँचाना है “

“मैं किसी के जीवन की कीमत पर 30 मिनट में पिज्जा नहीं चाहता!

एक ग्राहक के रूप में कभी-कभी हम उत्साहित हो जाते हैं कि जब आप प्रोमो देखते हैं कि “यदि पिज्जा अगले 30 मिनट में नहीं आता है तो यह मुफ़्त है”। लेकिन इस रविवार को मैंने एक ऐसी स्थिति का अनुभव किया जिसे मैं आप सभी के साथ साझा करना चाहता था।

मैं अपने परिवार के साथ गाड़ी चला रहा था। मैं एक ट्रैफिक सिग्नल पर  खड़ा था, बस मेरे बगल में एक युवा लड़का आया जो आर्डर पहुँचाने आज रहा था, सिग्नल हरा होते ही वह काफी तेज़ी से निकला आड़े तिरछे मोड़ लेते हुए वह आगे बढ़ ही रहा था कि  अचानक से उसका संतुलन बिगड़ गया और वह ठीक मेरी कार के नीचे आया, सौभाग्य से वह बच गया।

मैं अपनी कार से बाहर आया, में परेशान था। मैंने उस पर चिल्लाया “क्या प्रॉब्लम है तुम्हारे साथ, तुम मर गए होते अभी?

उसने दर्द से कराहते हुए जवाब दिया, “सर, मुझे यह आर्डर पहुँचाना है ट्रैफिक की वजह से लेट हो गया, इसलिए मैं तेज़ी में जा रह था ।” मैंने उसे फर्स्ट ऐड दी इसके बाद वह तुरंत वहाँ से चला गया।

मैंने खुद से कहा, मैं कभी भी वैसी कंपनियों का साथ नहीं दे सकता तो जो खाना देर से लाने पर फ्री में देने की बात करते हों । मैं जीवन का महत्व समझता हूँ और सम्मान करता हूँ|

मैं सिर्फ अपने विचार आपके साथ बाँटना चाहता था और अगर खाना देर से भी आता है तो आप उसके पैसे दे दें। ये लोग कभी-कभी अपने जान को खतरे में डालते हुए गर्म पिज़्ज़ा आप तक पहुँचाते हैं और कई बार अपने जीवन को जोखिम में डालते हैं।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...