ख़बरें

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने 16 हवाई अड्डों पर सिंगल यूज़ वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाया

तर्कसंगत

January 9, 2019

SHARES

हम इसे कितना भी नकारने की कोशिश करें, लेकिन समय के साथ-साथ प्लास्टिक हमारे जीवन का हिस्सा बन गया है. हम प्लास्टिक के उपयोग के इतने आदी हो गए हैं कि हम इसकी खपत को कम करना भी नहीं चाहते हैं या शायद वैकल्पिक तरीकों की तलाश में हैं. सिंगल यूज़ प्लास्टिक इस खतरे में सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है. हम में से लगभग सभी, कम से कम रोज़ाना सिंगल यूज़ प्लास्टिक एक या दूसरे रूप में उपयोग करते हैं. हम आम तौर पर डिस्पोजेबल कॉफी कप के रूप में सिंगल यूज़ वाले प्लास्टिक का उपयोग करते हैं, नारियल पानी पीते वक़्त उपयोग में लाये जाने वाला स्ट्रॉ भी उनमें से एक है. हालाँकि, प्लास्टिक प्रदूषण की समस्या और प्लास्टिक के एक बार के उपयोग की अधिकता सभी को दिखाई देती है, और समस्या को रोकने के लिए, कई प्रयास किये जा रहे हैं.

हाल ही में, 4 दिसंबर को, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने देश भर में अपने 16 हवाई अड्डों पर सिंगल यूज़ वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगा दिया है. अधिकारियों ने हवाई अड्डे के निदेशकों को भी निर्देश जारी किए हैं कि वे सिंगल यूज़ वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाएं. उन्हें आदेश को जल्द से जल्द लागू करने का आग्रह किया है.

 

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, एएआई  प्रतिबंध के कार्यान्वयन का आकलन करने के लिए गुणवत्ता परिषद (क्यूसीआई) की मदद ले रहा है. यह प्रतिबंध 31 जनवरी तक पूरी तरह से लागू हो जाएगा.

 

जिन 16 हवाई अड्डों पर प्रतिबंध लागू किया गया है वे इंदौर, भोपाल, अहमदाबाद, भुवनेश्वर, तिरुपति, त्रिची, विजयवाड़ा, देहरादून, चंडीगढ़, वडोदरा, मदुरै, रायपुर, विजाग, पुणे, कोलकाता और वाराणसी में हैं.

 

प्लास्टिक प्रदूषण को रोकना एक सामाजिक जिम्मेदारी

खुद को “पर्यावरण के प्रति जागरूक सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम” कहते हुए, एएआई ने ट्वीट किया, “पर्यावरण के प्रति जागरूक सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम होने के नाते, #AAI अपने कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के प्रति प्रतिबद्ध है और यह सुनिश्चित करने के लिए उपाय किए हैं कि देश भर में अपने 16 हवाई अड्डों को सिंगल यूज़ प्लास्टिक-फ्री टर्मिनल बनाए जाएं. #AAICares.”

द फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक़ अपने बयान में, उन्होंने आगे कहा कि यात्री टर्मिनलों और शहर की ओर से सिंगल यूज़ प्लास्टिक वस्तुओं को खत्म करने के लिए विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने दावा किया कि इन कदमों में सिंगल यूज़ प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाना शामिल है जिसमें स्ट्रॉ, प्लास्टिक कटलरी, प्लास्टिक प्लेट आदि जैसी चीजें शामिल हैं.

एएआई के प्रवक्ता ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा कि एएआई अपने वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम को भी बढ़ाने की कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा कि प्राधिकरण का उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल स्थायी विकल्पों के उपयोग को बढ़ावा देना है. इसके लिए उपलब्ध विकल्पों में हवाई अड्डों के परिसर में प्लास्टिक की बोतल क्रशिंग मशीनों की स्थापना के अलावा कचरे के डिब्बे में बायो-डिग्रेडेबल कचरा बैग का उपयोग शामिल होगा.

एएआई द्वारा अन्य पहलों के बारे में बात करते हुए प्रवक्ता ने कहा कि यात्रियों को प्लास्टिक प्रदूषण के बारे में जागरूक करने के लिए विभिन्न जागरूकता अभियान भी हैं. उन्होंने कहा कि एएआई यात्रियों को उनके साथ सहयोग के लिए भी प्रोत्साहित करेगा.

 

इस फैसले का स्वागत भी हुआ

 

 

 

तर्कसंगत भी एएआई द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करता है और हम अधिक लोगों को इस पहल में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। यह महत्वपूर्ण है कि हम सभी को इस बात का पता होना चाहिए कि प्लास्टिक के गैर जिम्मेदाराना उपयोग के लिए हमें भारी क़ीमत चुकानी पड़ सकती है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...