मेरी कहानी

मेरी कहानी: 13 साल की उम्र में मानव तस्करी के शिकंजे से बचने के बाद इस लड़की ने चार्टर्ड अकाउंटेंट की परीक्षा पास की

तर्कसंगत

Represntational Image

January 28, 2019

SHARES

हमने इस बारे में कई कहानियां सुनी हैं कि पहली बार में चार्टर्ड अकाउंटेंसी परीक्षा को क्रैक करना कितना कठिन होता है. परीक्षा पास करने के लिए लोग सालों-साल इंतजार करते हैं. वे तैयारी करने के लिए कई एक्स्ट्रा क्लासेज लेते हैं. हम आज आपको एक लड़की की एक छोटी कहानी बताने जा रहे हैं, जिसने पहली बार में सभी परेशानियों के बावजूद सीए की परीक्षा पास की. उसे कोई मदद नहीं मिली.

मैं काफी इमोशनल फील कर रही हूँ.

हमारी एक बच्ची ने अपनी मेहनत के दम पर, बिना किसी से मदद लिए अपने चौथे एटेम्पट में सीए की परीक्षा पास की है.

मैं अभी भी उस दिन को नहीं भूल सकती, जब हमने उसे हैदराबाद टास्क फोर्स के साथ मिलकर बचाया था, ग्राहक के साथ कमरे में एक 13 साल की बच्ची को देख कर हम दंग रह गए थे, हैरानी तो तब हुई जब हमें पता चला कि उसकी माँ ही उसकी तस्कर थी और बच्ची एक साल से अधिक समय से ऐसी हालात में थी. बच्ची ने अपनी  दो बहनों को भी बचाने में हमारी काफी मदद की.

उसकी सुरक्षा के कारण से  उसने एक ओपन स्कूल से अपना X Std लिखा. आज वह ग्रेजुएशन की सेकंड ईयर में है और एक कॉलेज की टॉपर है. अपने धैर्य, एकाग्रता और मेहनत के दम पर, वह सीए परीक्षा में पास हुई है.

मैं उसकी पिक्चर भी पोस्ट करती मगर कोर्ट की कारवाई के कारण मैं यह नहीं कर सकती.

भवानी हम सभी के लिए एक प्रेरणा है.

मैं हैदराबाद टास्क फोर्स में विशेष रूप से इंस्पेक्टर श्रीकांत, मेरे सहयोगियों और मजिस्ट्रेट पद्मजा सत्यम और मेरी शेल्टर टीम को इस असंभव काम को कर दिखाने के लिए धन्यवाद देती हूँ.

सही समय पर बचाव , सही रिहैबिलिटेशन और थोड़ा-सा भरोसा और प्यार सेक्स स्लेवरी में बंधी लड़की की ज़िन्दगी बदल सकता है.

 

कहानी: सुनीत कृष्णन

आप भी अपनी कहानी तर्कसंगत के फेसबुक मैसेंजर पर लिख भेजिए.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...