ख़बरें

खुद आर्थिक संकट मे होने के बावजूद, इस ऑटो चालक ने यात्रियों के 10 लाख रुपये लौटाए

तर्कसंगत

Image Credits: Times Of India

February 12, 2019

SHARES

तेलंगाना के एक ऑटो-चालक ने दो यात्रियों को 10 लाख रुपये से भरा एक बैग लौटाया, जो वे उसके ऑटो में भूल गये थे. ऑटो-चालक जे रामुलु का पैसे वापिस लौटाना और भी महत्वपूर्ण इसीलिए है क्योंकि वे खुद आर्थिक संकट में है फिर भी वे परिस्थितियों से घबराए नहीं और ईमानदारी से काम किया.

अपने पैसे वापस करने के लिए रामुलु को धन्यवाद देते हुए, हैदराबाद में एक किराने की दुकान चलाने वाले दोनों भाइयों ने उन्हें 10,000 रुपये से सम्मानित किया.



नेक आदमी


नालगोंडा जिले के देवरकोंडा के एक आदिवासी 30 वर्षीय रामुलु ने गचीबोवली में श्री राम नगर कॉलोनी में दो यात्रियों को छोड़ने के बाद देखा कि वे अपना बैग ऑटो में भूल गए थे. बैग खोलने पर उसने उसमे पैसो का ढेर पाया. “मैं डर गया था लेकिन उस समय तक, मैं सिकंदराबाद में जुबली बस स्टेशन (JBS) तक पहुँच गया था, जहाँ से मैं ऑटो चलाता हूँ.” फिर वे “नॉन-स्टॉप” वापस श्री राम नगर कॉलोनी में पहुँचे जहाँ उन्होंने दोनों यात्री को छोड़ा था.

रामुलु ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह इस पैसे से कम से कम दो साल के लिए आरामदायक जीवन जी सकते थे लेकिन वह बेईमान जीवन जीने में सहज नहीं थे इसलिए उन्होने पैसे वापस कर दिए. रामुलु प्रति दिन 500 रुपये कमाते हैं. वह अपनी पत्नी के साथ रहते है जो एक मजदूर है और उनके दो स्कूल जाने वाले बच्चे हैं. रामुलु पर उसके ऑटो के लिए 1.5 लाख रुपये का कर्ज है.

सौभाग्य से, दोनों भाई-  प्रसाद और किशोर उसी स्थान पर थे जहाँ रामुलु ने उन्हें छोड़ा था. दोनों कुछ पुलिस कर्मियों के साथ ऑटो की तलाश कर रहे थे. प्रसाद और किशोर सिद्दीपेट में एक किराने की दुकान चलाते हैं और घर बनाने के लिए पैसे लेकर जा रहे थे. प्रसाद ने द टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, “मुझे हाल ही में अपने पैर में फ्रैक्चर हुआ था और ऑटो से नीचे उतरते समय मुझे गंभीर दर्द का अनुभव हुआ. उसी कारण हम बैग के बारे में भूल गए और ऑटो में पीछे छोड़ दिया जिसमें हम सफर कर रहे थे.”

वे पुलिस के साथ सीसीटीवी कैमरों से तलाश कर रहे थे जब रामुलु उनके बैग के साथ वापस आया. प्रसाद ने कहा कि रामुलु के कार्य से पता चला कि ईमानदारी आज भी दुनिया में मौजूद है.


अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...