मेरी कहानी

मेरी कहानी: “और कितने पायलटो को शहीद होना पड़ेगा आपको यह भरोसा दिलाने के लिये सिस्टम में करप्शन/भ्रष्टाचार है?”

तर्कसंगत

February 19, 2019

SHARES

मैं गरिमा अबरोल हूँ. मैं शहीद स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल की पत्नी हूँ. अभी मेरे आँसू भी सूखे नहीं हैं और आप चले गए हैं. मेरे सवालों का जवाब किसी के पास नहीं है. आखिर आप ही क्यों ?

मेरे पति एक गौरव से भरे हुए/ गौरवशाली भारतीय थे, मैं उन्हें बहुत पसंद करती थी और उन्हें देश की सेवा के लिए सुबह की चाय के बाद गर्व से ऊँचे सर के साथ भेजना मुझे बहुत अच्छा लगता था.

 

प्रत्येक सैनिक की पत्नी को जीवन में सबसे बड़ा डर तब होता है जब उसके पति को फ्रंट लाइन में बुलाया जाएगा तब उसे एक सक्रिय युद्ध में सेवा देने के जरुररत होगी. मुझे भी यही डर था. कई बार मैं इस तरह के एक बुरे सपने के बाद रोते हुए जाग जाती थी. लेकिन समीर मुझे संभाल लेता था और मुझे सांत्वना देते हुए बताता था. कि वह उसकी नौकरी का अंतिम उद्देश्य है.. बुलावा आने पर मुझे देश की सेवा करने में सक्षम होना है. वह चाहता था की मैं बहादुर बनूँ , जैसा कि वह था, एक बहादुर सैनिक, देशभक्त हर तरह से.

यह एक सैनिक का काम है. यह आपको प्रसिद्धि नहीं दिलाता है. जब आप छोड़कर चले जाते हैं तो आपके परिवार के सिवा कोई नहीं रोता है. यह आपको एक सेलिब्रिटी नहीं बनाता है. मीडिया इसे एक दिन के लिए कवर करती है और इसे वैसे ही छोड़ दिया जाता है जैसे समीर से पहले इस तरह से अचानक शहीद हुए लोगों को. फिर हर कोई इसके बारे में भूल जाता है.

और कितने पायलटों को अपनी जान देनी पड़ेगी आपको जगाने के लिए और आपको एहसास कराने के लिये कि सिस्टम में वास्तव में कुछ गड़बड़ है.

 

एक पायलट एक दिन में नहीं बनता है, उनकी आत्माओं को नौकरी में ढलने के लिए दस वर्ष की ट्रेनिंग लेनी पड़ती है. आपको जागने के लिए और कितने सेनानियों को अपना जीवन न्योछावर करना पड़ेगा.

मैं नहीं चाहती कि आर्म फ़ोर्स के परिवार की कोई और बहन उस दर्द को झेले, जिससे मैं गुजर रही हूं. मुझे मेरे पति, मेरे बैटमैन; के बिना अकेले रहना कितना दर्दनाक लगता है इसका मैं शब्दों में वर्णन नहीं कर सकती हूँ.

 

मुझे जवाब चाहिए

 

जबकि यह सिर्फ एक दूसरी कहानी और कुछ लोगों के लिए एक घटना है, लेकिन मैं उस कारण के लिए लड़ती रहूंगी जिसने आपको मुझसे दूर किया है.

I am Garima Abrol…..I am the wife of Martyr Squadron Leader Samir Abrol….whose tears are still not dry…It still hasn’t…

Posted by Garima Abrol on Sunday, 10 February 2019

 

आप अभी अपनी कहानी हमें तर्कसंगत के फेसबुक मैसेंजर पर भेज सकते हैं.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...